सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

गाय-भैंस की देसी प्रजातियों के पालन पर सरकार दे रही 5 लाख रुपए, जानें पूरी खबर

गाय-भैंस की देसी प्रजातियों के पालन पर सरकार दे रही 5 लाख रुपए, जानें पूरी खबर
पोस्ट - November 10, 2022 शेयर पोस्ट

सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान पशुपालकों को सरकार देगी गोपाल रत्न पुरस्कार

देश में किसानों की आर्थिक स्थिती को मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार विभिन्न कल्याणाकारी परियोजनाओं का संचालन किया जा रहा हैं। इन्हीं परियोजनाओं में से एक राष्ट्रीय पशुधन मिशन परियोजना भी है। केंद्र सरकार ने इसे साल 2014-15 में शुरू किया था। इसके तहत सरकार देश में पशुपालन को बढ़ावा देने एवं रोजगार के नये अवसर पैदा करने का प्रयास कर रही है। बता दें कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और यहां ग्रामीण क्षेत्रों में खेती-बाड़ी के अलावा पशुपालन भी आय का एक अहम माध्यम है। पिछले कुछ सालों में पशुपालन और डेयरी फार्मिंग क्षेत्र का विस्तार हुआ है। ग्रामीण क्षेत्र में लोग इस क्षेत्र से अच्छी खासी साईड इनकम अर्जित कर रहे है। और यह ग्रामीण लोगों की अर्थव्यवस्था का एक अहम हिस्सा बन गया है। केंद्र और राज्य सरकारें भी इस क्षेत्र के विस्तार के लिए अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रही है। इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारें पालन के क्षेत्र में उद्यमिता विकास एवं नस्ल सुधार और पशु उत्पादकता में वृद्धि के लिए किसान और पशुपालक को प्रोत्साहित करती है एवं उन्हें पुरस्कार भी देती है। इसी दिशा में केंद्र सरकार द्वारा देसी गायों के संरक्षण का काम कर रहे किसान और पशुपालक को गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है। इसके तहत केंद्र सरकार वैज्ञानिक तकनीक से देसी नस्ल सुधार और पशुओं की उत्पादकता बढ़ाने वाले किसानों को 5 लाख रुपए तक का पुरस्कार देती है। इसके लिए सरकार की ओर से हर साल किसानों से आवेदन मांगे जाते हैं। 

New Holland Tractor

राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार

बता दें कि केंद्र सरकार ने देश में स्वदेशी गौवंशीय पशुओं की नस्लों में सुधार करने, उनके संरक्षण तथा दुग्ध उत्पादन क्षमता को बढ़ाने एवं गुणवत्ता को बेहतर बनने के लिए राष्ट्रीय गोकुल मिशन लागू किया गया था। इस मिशन का उद्देश्य पशुओं और भैंसों का आनुवांशिक सुधार और पशु उत्पादकता में वृद्धि करना है। इसके लिए सरकार द्वारा डेयरी क्षेत्र में बेहतर काम करने वाले किसानों, कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियनों और डेयरी समितियों को प्रोत्साहित करने के लिए राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है। यह पुरस्कार प्रति वर्ष राष्ट्रीय दुग्ध दिवस यानी 26 नवंबर के अवसर पर दिया जाता है। डेयरी क्षेत्र में दिया जाने वाला राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार देश का सर्वश्रेष्ठ सरकार पुरस्कार है। बता दें कि इस साल तो आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है लेकिन आप चाहें तो अभी से देसी पशुओं के हित में कार्य करके अगले साल गोपाल रत्न अवॉर्ड और 5 लाख रुपये का पुरस्कार जीत सकते हैं।

केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य एवं डेयरी मंत्रालय द्वारा दिया जाता है यह पुरस्कार 

गायों और भैंसों की स्वदेशी नस्लों के संरक्षण एवं पालन-पोषण करने वालें किसान और पशुपालकों को गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है। यह पुरस्कार केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय की तरफ से दिया जाता है। दुग्ध उत्पादक किसानों और इस क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्तियों तथा दुग्ध उत्पादकों को बाजार तक सुलभ पहुंच प्रदान करने वाली सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सहकारी समितियों को गोपाल रत्न पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाता है। इसके लिए केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य और डेयरी मंत्रालय की ओर से हर साल गोपाल रत्न पुरस्कार समारोह का आयोजन किया जाता है। इसके लिए इस क्षेत्र में अच्छा काम करने वाले उम्मीदवारों से केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य एवं डेयरी मंत्रालय द्वारा आवेदन भी मांगे जाते है। 

तीन श्रेणियों में दिया जाता है गोपाल रत्न अवॉर्ड

यह पुरस्कार केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय की तरफ से कुल तीन श्रेणियों में दिए जाते है। जिसमें बेस्ट डेयरी फार्मर स्वदेशी पशु नस्ल रखने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, बेस्ट एआइटी टेक्निशियन (सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन) और बेस्ट डेयरी को आपरेटिव सोसाइटी यसर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी समिति/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन इनमें शामिल हैं। देशी गाय-भैंस की नस्लों को पालने.पोसने वाले डेयरी किसान/कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन और डेयरी सहकारी समिति/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन से जुड़े किसान को इस क्षेत्र में अच्छा काम करने के लिए चयनितों को 5 लाख रुपये प्रथम पुरस्कार, 3 लाख रुपये द्धित्तीय पुरस्कार और 2 लाख रुपये तृत्तीय पुरस्कार के अलावा प्रशस्ति पत्र और मोमेंटो दिया जाता है।

पिछले साल भी दिया गया राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार 

बता दें कि केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय की ओर से पिछले साल भी देशी गाय/भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन, एआईटी और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन के चुनाव के लिए राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार पोर्टल के माध्यम से पूरे देशभर के डेयरी किसानों एवं पशुपालकों से आवेदन आमंत्रित किए गए थे। जिसके विरुद्ध देशभर से कुल 4,401 आवेदन ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त हुए थे। प्राप्त आवेदनों में से राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए सर्वश्रेष्ठ किसानों का चुनाव कर उन्हें प्रत्येक श्रेणी में पुरस्कार के रूप में योग्यता प्रमाण पत्र, एक स्मृति चिन्ह एवं राशि प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवंबर 2021 के दिन केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा एक अवसर पर एक मेगा कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस समारोह के दौरान केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्रीए पुरुषोत्तम रूपला देशी गाय/भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान विजेता, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (एआईटी) और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन के विजेताओं को राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 

राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार में आवेदन हेतु ये होनी चाहिए पात्रता

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के तहत राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है। यह पुरस्कार देशी गाय/भैंस की नस्लों को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन, एआईटी और सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन को गाय की 50 और भैंस की 17 प्रमाणित नस्लों के संरक्षण-संवर्धन करने पर दिया जाता है। देसी गायों के संरक्षण के लिये प्रशिक्षित कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन (90 दिन ट्रेनिंग का अनुभवा), दूध उत्पादक कंपनियां/डेयरी किसान उत्पादक संगठन (प्रति दिन 100 लीटर दूध उत्पादन) करती हो और दूध सहकारी समिति, एमपीसी या एफपीओ (50 किसान सदस्य) हो ऐसे डेयरी फार्मिंग करने वालें किसान पुरस्कार के लिए आवेदन के पात्र है। 

राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए यहां कर सकते है आवेदन

केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय द्वारा प्रति वर्ष राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कारों के लिए सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी समिति, दुग्ध उत्पादक कंपनी और डेयरी किसान उत्पादक संगठन से आवेदन आमंत्रित किया जाता है। देशी गाय-भैंस की नस्लों को पालने.पोसने वाले डेयरी किसान/कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन और डेयरी सहकारी समिति/दुग्ध उत्पादक कंपनी/डेयरी किसान उत्पादक संगठन से जुड़े किसान राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कारों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार पोर्टल https://awards.gov.in पर अपना आवेदन कर सकते है। 

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह पॉवरट्रैक ट्रैक्टर व सोनालिका ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3yjB9Pm

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors