सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

खुशखबरी : मछुआरों और पशुपालकों को अब बिना गारंटी मिलेगा 1.60 लाख रूपये का लोन

खुशखबरी : मछुआरों और पशुपालकों को अब बिना गारंटी मिलेगा 1.60 लाख रूपये का लोन
पोस्ट - August 04, 2022 शेयर पोस्ट

जानें, केसीसी लोन पर कितना देना होता है ब्याज, कैसे मिलेगा योजना का लाभ

देश के किसानों, पशुपालकों और मछुआरों की आय डबल करने एवं उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए भारत सरकार द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड योजना चलाई जा रही है। इस योजना का उद्देश्य कृषि, मछली पालन और पशुपालन जैसे क्षेत्रों में किसानों की क्रेडिट जरूरतों को बिना किसी गड़बड़ी के पूरा करना है। केंद्र सरकार किसानों, पशुपालकों और मछुआरों को साहूकारों के चंगुल से मुक्त करने के उद्देश्य से ज्यादा से ज्यादा किसानों, पशुपालकों और मछुआरों तक किसान क्रेडिट कार्ड पहुंचाने की कोशिश में जुटी हुई है। दरअसल किसान, पशुपालक और मछुआरा क्षेत्र से संबंधित लोग जब बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) बनवाने लिए पहुंचते हैं, तो उनसे बैंक गारंटी के तौर पर जमीन के कागजात मांगे जाते हैं। लेकिन सरकार ने केसीसी बनवाने के लिए ऐसी कोई शर्त/नियम नहीं रखी हैं। इसलिए केसीसी बनवाने एवं केसीसी के तहत कोलेक्ट्रल फ्री (रेहन मुक्त) लोन के लिए अप्लाई करिए। यदि आप केसीसी के तहत सिर्फ 1.6 लाख रुपये तक के लोन उठाने के लिए अप्लाई करेंगे तो बिना कोई गारंटी दिए लोन उठा सकते है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अनुसार सरकार ने अब केसीसी के तहत पशुपालन एवं मछलीपान क्षेत्र को जोड़कर कर केसीसी जारी करने की प्रक्रिया को सरल किया है। अब केसीसी की यह सुविधा मछुआरे और पशुपालक भी उठा सकते हैं। आइए ट्रैक्टरगुरू के इस लेख के माध्यम से सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के माध्यम से जानते हैं कि किसान क्रेडिट कार्ड का फायदा पशुपालक और मछुआरों को कितना मिला है। 

New Holland Tractor

बिना गारंटी के उठा सकते हैं 1.60 लाख रुपये तक लोन

सरकार द्वारा फरवरी, 2020 से इसकी कवरेज बढ़ाने के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया। इसके तहत 25 फरवरी 2022 तक यह सफलता हासिल की गई है। इस विशेष अभियान के तहत केसीसी प्रोसेस को आसान करने के लिए निम्न बदलाव किये गए हैं। इसमें लघु अवधि के कृषि ऋण के लिए बिना गारंटी के 1.60 लाख रूपए तक केसीसी लोन मछुआरों सहित सभी कार्ड धारकों द्वारा लिया जा सकता है। यह सुविधा पशुओं, पक्षियों, मछली, झींगा, जलीय जीवों को पालने और मछली पकड़ने के लिए लघु अवधि लोन की जरूरतों को पूरा करेगी। केसीसी लोन की यह सुविधा पहले सिर्फ कृषि क्षेत्र के लिए थी और उनकी ब्याज मुक्त सीमा सिर्फ 1 लाख रुपये थी। सरकार द्वारा पहले इसे किसानों के लिए बढ़ाकर 1.60 लाख रुपये किया गया। फिर इसे पशुपालकों और मछुआरों के लिए भी इसे लागू किया गया।

3,33,164 पशुपालकों और मछुआरों को मिला केसीसी 

सरकारी आंकड़ों के अनुसार आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने केसीसी योजना के तहत पिछले दो साल में 2.92 करोड़ किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड जारी किया है। सरकार द्वारा इस योजना से पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम को जोड़कर केसीसी बनाने का विशेष अभियान चलाया गया। जिसके तहत सिर्फ 2 साल में इतने किसानों को केसीसी का फायदा पहुंचाया गया है। केसीसी का लाभ अधिक से अधिक लोगों को मिले इसके लिए सरकार ने विशेष अभियान भी चलाया। विशेष अभियान के तहत केसीसी प्रोसेस को आसान करने के लिए निम्न बदलाव किये गए। लेकिन इसके बावजूद भी केसीसी का लाभ लेने में किसानों के मुकाबले पशुपालक और मछुआरे काफी पीछे हैं। इसकी मुख्य वजह पशुपालक और मछुआरों में जागरूकता का अभाव और बैंकों के भ्रष्ट अधिकारी है। 

केंद्र सरकार की सख्ती के बावजूद बैंकों का माइंडसेट कृषि, पशुपालन और मछली पालन के लिए लोन देने का नहीं है। सरकार द्वारा केसीसी बनवाने के नियमों के बदलाव एवं सभी शुल्क माफ करने के बावजूद ज्यादातर केसीसी बनवाने में बैंक वाले अवैध तरीके से पैसा वसूलते हैं। केंद्र सरकार ने आदेश दिए हैं कि आवेदन पूर्ण होने के दो सप्ताह के भीतर केसीसी जारी करना पड़ेगा। लेकिन ऐसा होता नहीं, बैंक मैनेजरों की मनमानी कायम है। फिलहाल 22 जुलाई तक देश में 3,33,164 पशुपालकों और मछुआरों के किसान क्रेडिट कार्ड बनाए जा चुके हैं।

केसीसी बनवाने का प्रोसेस किया आसान 

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अनुसार केसीसी जारी करने की प्रक्रिया को सरल किया गया है। केसीसी के लिए पूरी जानकारी के साथ भरा हुआ आवेदन, पहचान पत्र-जैसे वोटर आईडी, आधार और पैन कार्ड, एफीडेविड, पासपोर्ट साइज फोटो के साथ केसीसी आवेदन पत्र को बैंक की शाखा में जमा करें। केसीसी पूर्ण आवेदन प्राप्त होने के 14 दिनों के भीतर जारी किया जाना है। सरकार ने किसानों की परेशानी को समझते हुए केसीसी आवेदन के लिए बहुत ही सरल फॉर्म सिर्फ एक पेज का विशेष आवेदन पत्र भी तैयार किया गया और बैंकों के साथ साझा किया गया। 3 लाख रूपये तक के लोन के लिए प्रसंस्करण शुल्क, निरीक्षण, बही फॉलियो शुल्क, सेवा शुल्क सहित सभी शुल्क माफ कर दिए गए।

महज 4 फीसदी का ब्याज 

किसान क्रेडिट कार्ड के जरिए सबसे सस्ता लोन मिलता है। किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत विशेष क्रेडिट कार्ड किसान को औसतन 4 प्रतिशत ब्याज दर पर राशि उधार लेने के लिए अनुमति देता है। इस पर लिए गए 3 लाख रुपये तक के कृषि लोन की ब्याज दर वैसे तो 9 फीसदी होती है। लेकिन सरकार इसमें 2 फीसदी की सब्सिडी देती है। जबकि समय पर मूल राशि और ब्याज लौटाने पर 3 परसेंट की और छूट मिलती हैं। कुल मिलाकर ईमानदारी और समय पर सरकारी पैसा लौटाने वाले किसानों को यह लोन 4 प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से पड़ता है। केवल यही ही नहीं, किसान क्रेडिट कार्ड पर लोन के लिए पुनर्भुगतान अवधि भी सुविधाजनक है, जैसे कि यह फसल की कटाई के बाद शुरू हो सकती है। केसीसी लोन का आवेदन करने के लिए आपके पास केसीसी क्रेडिट कार्ड का होना अनिवार्य है। 

इन कार्ये हेतु मिलेगा केसीसी लोन

हम सभी जानते हैं कि सरकार केसीसी के तहत किसानों को कृषि में बढ़ावा देने के लिए आर्थिक सहयोग के लिए उन्हें क्रेडिट कार्ड प्रदान करती है। इस क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसानों को विभिन्न कृषि कार्ये जैसे कि फसल के लिए कर्ज, फार्म ऑपरेटिंग लोन, फार्म ओनरशिप लोन, एग्री बिजनेस लोन, डेयरी प्लस लोन ब्रॉइलर प्लस स्कीम, मछलीपालन लोन, हॉर्टिकल्चर लोन, फार्म स्टोरेज फेसिललिटीस और वेयरहाउसिंग लोन, माइनर इरिगेशन स्कीम और लैंड पर्चेज स्कीम आदि कृषि से संबंधित कार्यों के लिए लोन बेहद आसान ब्याज दर पर मिलते हैं। 

इन बैंकों से प्राप्त कर सकते हैं केसीसी लोन

किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसान, पशुपालक और मछुआरे बेहद कम ब्याज दर पर अधिकतम तीन लाख रुपये तक का लोन आसानी से उठा सकते हैं। किसान क्रेडिट कार्ड पांच सालों के लिए वैध होता है। केसीसी के माध्यम से आप कई बैंक जैसे बैंक ऑफ इंडिया, एक्सिस बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, नेशनल पेमेंट्स कॉपरपोरेशन ऑफ इंडिया और भी कई अन्य बैंक से लोन प्राप्त कर सकते हैं।  

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर  व वीएसटी ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3st5ozQ

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors