सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

टिश्यू कल्चर सब्सिडी - केला उत्पादक किसानों को मिलेगी 62500 रुपए की सब्सिडी

टिश्यू  कल्चर सब्सिडी - केला उत्पादक किसानों को मिलेगी 62500 रुपए की सब्सिडी
पोस्ट - September 04, 2022 शेयर पोस्ट

जानें क्या है टिशु कल्चर विधि और किसी प्रकार सरकार किसानों को कर रही प्रोत्साहित

भारतीय आबादी का लगभग 60 प्रतिशत हिस्सा खेती करता हैं। देश में लगभग 141 मिलियन हैक्टेयर भूमि पर खेती की जाती है। भारत में लगभग सभी प्रकार की खेती की जाती है। खेती के क्षेत्र में उत्पादन के लिए लेकर किसानों को काफी जोखिमों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में खेती  क्षेत्रों में उत्पादकता में वृद्धि और खेती से होने वाली आय में बढ़त्तोरी के लिए केंद्र और राज्य सरकारें नई-नई योजनाओं एवं तकनीक को लाती रहती है। इन नई-नई तकनीक एवं योजनाओं से खेती करने के लिए किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। वर्तमान समय में कृशि क्षेत्र में कई नई तकनीकों का आविष्कार किया जा रहा है, जिससे खेती करना काफी आसान हो गया है। खेती की इन नई तकनीकों में से हम एक ऐसी तकनीक के बारे में बात कर रहे है, जो आधुनिक खेती का एक बेहतरीन उदाहरण है। यह आधुनिक तकनीक टिश्यू कल्चर के नाम से जानी जाती है। बिहार सरकार अपने राज्य में इस विधि से केले की खेती करने वाले किसानों को 50 प्रतिशत तक का अनुदान दे रही है। 
दरअसल बिहार राज्य के कई जिलों में केले की खेती बड़े पैमाने पर होती है। इस कारण बिहार सरकार किसानों को केले की खेती की उत्पादकता को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। टिश्यू  कल्चर विधि से केले की खेती में न सिर्फ कम समय में केले का पौधा तैयार हो जाता है, बल्कि इस विधि से तैयार पौधों की गुणवत्ता भी सामान्य केले के मुकाबले अच्छी होती है। साथ ही यह किसानों को मुनाफा भी ज्यादा देती है। तो आइए ट्रैक्टर गुरू के इस लेख के माध्यम से टिशु कल्चर विधि और इस विधि पर मिल रही प्रोेत्साहन राशि के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

New Holland Tractor

टिश्यू कल्चर विधि पर कितनी सब्सिडी?

आज के आधुनिक युग में अगर आप भी बागवानी के क्षेत्र में एक सफल किसान बनना चाहते हैं, तो आप बागवानी, सब्जियों की खेती में टिश्यू कल्चर विधि का प्रयोग करके एक सफल किसान बन सकते है। इस विधि केले की खेती करने के लिए बिहार सरकार किसानों को 50 प्रतिशत सब्सिडी दे रही हैं। बिहार कृषि विभाग के मुताबिक इस विधि से केले की खेती करने के दौरान एक हेक्टेयर के क्षेत्र में करीब 1.25 लाख रुपए की लागती है। किसानों को सरकार की ओर से 50 प्रतिशत यानि 62500 रुपए सब्सिडी के तौर पर कृषि विभाग से मिल जाते है। यह अनुदान पहले साल 75 प्रतिशत और दूसरे साल 25 प्रतिशत मिलेगा। अनुदान के लिए किसानों को आनलाइन आवेदन करना पड़ेगा। किसानों को पौधा उपलब्ध कराने से पहले आवेदन की जांच भी की जाएगी। इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को http://horticulture.bihar.gov.in/ पर जाकर आवेदन करना होगा।  

टिश्यू कल्चर विधि

जैवप्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पौधों में आनुवंशिक सुधार, उसके निष्पादन से सुधार आदि में टिश्यू  कल्चरया ऊतक संवर्धन एक अहम भूमिका निभाता हैं। पौधों में टिश्यू  कल्चर एक ऐसी तकनीक है जिसमें किसी भी पादप ऊतक जैसे जड़, तना, पुष्प आदि को निर्जर्मित परिस्तिथियों में पोषक माध्यम पर उगाया जाता है। यह पूर्ण शक्तता के सिद्धांत पर आधारित हैं. इस सिद्धांत के अनुसार पौधे की प्रत्येक कोशिका एक पूर्ण पौधे का निर्माण करने में सक्षम हैं। 

टिश्यू  कल्चर की प्रक्रिया 

पौधे के ऊतकों का एक छोटा सा टुकड़ा उसके बढ़ते हुए उपरी भाग से लिया जाता है और एक जेली में रखा जाता है जिसमें पोषक तत्व और प्लांट हार्मोन होते हैं। ये हार्मोन पौधे के ऊतकों में कोशिकाओं को तेजी से विभाजित करते हैं जो कई कोशिकाओं का निर्माण करते हैं और एक जगह एकत्रित कर देते हैं जिसे “कैलस” (बंससने) कहां जाता है। इन कैलस को एक अन्य जेली में स्थानांतरित किया जाता है जिसमें प्लांट हार्मोन होते है। यह कैलस को जडो में विकसित करते हैं। कैलस में जडों के विकसित होने के बाद एक और जेली दी जात है जिसमें विभिन्न हार्मोन होते है, जो कि पौधें के तने के विकास करते हैं। इस “कैलस” (बंससने) को जिसमें जड़ें और तना है को एक छोटे प्लांटलेट के रूप में अलग कर लिया जाता है। इस प्रकार से, कई छोटे-छोटे पौधे केवल कुछ मूल पौधे कोशिकाओं या ऊतक से उत्पन्न हो सकते हैं।

टिश्यू कल्चर विधि से केले उत्पादन किसानों को लाभ

बिहार के किसान बड़े पैमाने पर केले की खेती करते हैं। बिहार के लगभग सभी जिलों में केले की खेती होती है। केले का सीजन कभी खत्म नहीं होता। यह हर मौसम में उपलब्ध रहने वाला फल है। यही वजह है कि यहां के किसानों के बीच केले की खेती काफी लोकप्रिय है। बिहार में अब किसान टिश्यू कल्चर से केला उगा रहे हैं, जो काफी फायदेमंद साबित हो रहा है। इस विधि से तैयार पौधे एक जैसे और समान आकार वाले होते हैं। इनमें बीमारी की संभावना कम रहती है और पूरी फसल एक साथ तैयार हो जाती है। टिश्यू कल्चर केला किसानों के लिए सबसे अधिक फायदेमंद है। क्योंकि यह बहुत कम समय में यानी 13 से 15 माह में तैयार हो जाता है, जबकि अन्य तरीके से केले की खेती करने पर फसल 16 से 17 महीने में तैयार होते हैं। टिश्यू कल्चर से खेती करने पर 24 से 25 महीने के अंदर दो फसल तैयार हो जाता हैं। टिश्यू कल्चर केले सबसे बड़ी खासियत यह है कि इससे तैयार पौधों से 30 से 40 किलो प्रति पौधा केला मिलता है। ये पौधे स्वस्थ और रोग रहित होते हैं। सभी पौधों में पुष्पन, फलन व कटाई एक साथ होती है। टिश्यू कल्चर केला औषधीय गुणों से भरपूर होने के साथ साथ यह किसानों के लिए काफी लाभदायक भी है। किसान टिश्यू कल्चर केला की खेती से प्रति एकड़ साढ़े चार लाख रुपये तक कमा सकते हैं।

टिश्यू कल्चर विधि से तैयार केले स्वास्थ्य के लिए लाभकारी 

टिश्यू कल्चर केला औषधीय गुणों से भरपूर होने के साथ -साथ यह स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक भी है। टिश्यू कल्चर केले विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट की प्रचुर मात्रा होती है, जिससे शरीर को पोषक तत्व मिलते हैं। पका केला विटामिन ए, बी और सी का अच्छा स्रोत होता है। इसके नियमित सेवन से बहुत से बीमारियों का खतरा कम होता है। इसके अलावा यह गठिया, उच्च रक्तचाप, अल्सर और किडनी के विकारों से संबंधित रोगों से बचाव में भी सहायक होता है। टिश्यू कल्चर केले के तना से पेपर बोर्ड, टिश्यू पेपर और धागा बनाया जाता है। इसका पत्ता थाली बनाने और सजावट के काम आता है।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर  व आयशर ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3yjB9Pm

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors