सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि व्यापार समाचार कृषि मशीनरी समाचार ट्रैक्टर समाचार मौसम समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

बकरी पालन लोन : कम खर्च में करें अधिक कमाई, सरकार से मिलेगा 10 लाख रुपए का लोन

बकरी पालन लोन : कम खर्च में करें अधिक कमाई, सरकार से मिलेगा 10 लाख रुपए का लोन
पोस्ट - May 12, 2022 शेयर पोस्ट

बकरी पालन लोन प्राप्त करने के लिए बस करना होगा ये काम, सरकार भी करेगी मदद

हमारे देश में लोग नौकरी, मजदूरी और खेती जैसे किसी ना किसी प्रकार के कार्य से पैसे कमाते हैं। अधिकांश लोग साइड इनकम के लिए पशुपालन, मुर्गीपालन और मछली पालन इत्यादि करते हैं। लेकिन साइड इनकम के इन व्यवसाय को शुरू करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती हैं। हमारे देश में अधिक परिवार मध्यवर्ग से है, अपने परिवार का भरण पोषण सही प्रकार से नहीं कर पाते एवं  आर्थिक स्थिति सही नहीं  होने के कारण अक्सर खुद का व्यवसाय शुरू करने के बारे में सोच कर ही रह जाते हैं। बता दें कि अब उन्हे चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। सरकार ऐसे लोगों को खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराती है। सरकार पशुपालन, मुर्गीपालन और मछली पालन के लिए लोन उपलब्ध कराती हैं। अगर आप भी पशुपालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, लेकिन जानकारी के अभाव में ये निश्चित नहीं कर पा रहे है कि कौनसे पशुपालन का व्यवसाय शुरू करें। आपकी इन सभी परेशानी को देखते हुए आज हम आपको एक ऐसे खास पशुपालन बिजनेस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे कम लागत और छोटी सी जगह पर शुरू करके आप इससे हर महीने 2 लाख रूपये तक की कमाई कर सकेंगे। यह बकरी पालन का बिजनेस है। आपको बता दें कि हमारे देश में बकरी पालन का बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। बकरी पालन बिजनेस तेजी से बढऩे के कई प्रमुख कारण है। बकरी के दूध (औषधीय गुणों के कारण) और बकरी के मांस की बढ़ती मांग के कारण इस बिजनेस की तरफ लोगों की दिलचस्पी अधिक दिखाई दे रही है। बकरी पालन के लिए लोन भी आसानी से लिया जा सकता है जिसकी मदद से इस बिजनेस की शुरुआत की जा सकती है। बकरी पालन फार्म शुरू करने के लिए मौजूदा समय में कई बैकों से अच्छा खासा लोन प्राप्त किया जा सकता है। इस बिजनेस के लिए 50,000 रूपये से 10 लाख रूपये तक का लोन आसानी से मिलता हैं। इन बैंकों से लोन लेने का लाभ यह भी है कि कई बैंक पशुपालन के लिए लोन के साथ-साथ बीमा भी प्रदान करते हैं। इससे पशु फार्म मालिक को अतिरिक्त लाभ और वित्तीय सुरक्षा मिलती हैं। विभिन्न राज्य सरकारें बैंकों और नाबार्ड के सहयोग से बकरी पालन को बढ़ाने के लिए सब्सिडी योजनाएं प्रदान करती हैं। 

बकरी पालन बिजनेस क्या हैं? 

पशुपालन ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले छोटे किसान, मजदूर पशुपालन जैसे कार्य करते हैं। पशुुपालन बिजनेस में से एक पशुपालन बिजनेस बकरी पालन का है। बकरी पालन को ग्रामीण व छोटे किसानों की अर्थव्यवस्था का मुख्य जरिया माना गया है। बकरी पालन बिजनेस को कम लागत एवं घर के छोटे से हिस्से से शुरू किया जा सकता हैं। इस वजह से किसानों के बीच बकरी पालन का चलन बेहद तेजी से बढ़ा है। ज्यादातर पशुपालक किसान बकरियों का पालन दूध उत्पादन एवं इसके मांस के बिजेनस के लिए करते हैं। सरकार बकरी पालन बिजनेस के लिए सब्सिडी भी प्रदान करती है। 

राष्ट्रीय पशुधन मिशन के तहत सरकार भी करती है मदद

केंद्र सरकार ने बकरी पालन को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय पशुधन मिशन शुरू किया गया है। राष्ट्रीय पशुधन मिशन के तहत देश की विभिन्न राज्य सरकारें बैंकों और नाबार्ड के सहयोग से पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए किसानों को सब्सिडी प्रदान करती है। नेशनल लाइव स्टॉक मिशन में बहुत सारी योजनाएं हैं, जिसमें अलग-अलग योजना के लिए अलग-अलग सब्सिडी दी जाती है। नेशनल लाइव स्टॉक मिशन के तहत अलग-अलग राज्य सरकारों की सब्सिडी की मात्रा भी अलग-अलग होती है क्योंकि, यह केंद्र की योजना है लेकिन कई राज्य सरकारें इसमें अपनी तरफ से सब्सिडी में कुछ अंश को जोड़ देती हैं जिससे सब्सिडी की अमाउंट बढ़ जाती है। सरकार नेशनल लाइव स्टॉक मिशन के तहत बकरी पालन के लिए बहुत ही आकर्षक दरों पर लोन उपलब्ध कराती है। पशुपालन फार्म शुरू करने के इच्छुक लोग इन बैंक से लोन प्राप्त कर पशुपालन फार्म शुरू कर सकते हैं। इन बैंकों से लोन लेने का लाभ यह भी मिलता है कि बैंकों से आकर्षक दरों पर लोन के साथ-साथ पशुओं का बीमा भी मिल जाता है। 

बकरी पालन बिजनेस के लिए सरकारी सब्सिडी

बकरी पालन को बढ़ावा देने के लिए सरकार अपने स्तर पर तमाम तरह के प्रयास करती है। इसके अलावा बैंकों द्वारा भी बकरी पालन करने वाले किसानों को अच्छा खासा लोन दिया जाता है एवं बकरी पालन बिजनेस के लिए सरकार की ओर से सब्सिडी भी दी जाती है। इस योजना के तहत, बकरियों की खरीद पर खर्च किए गए धन का 25 से 35 प्रतिशत सब्सिडी के रूप में मिलता है। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति समुदाय के लोग और बीपीएल श्रेणी के लोगों को 33 प्रतिशत तक सब्सिडी मिलती है। जबकि ओबीसी व अन्य लोगों को 25 प्रतिशत सब्सिडी मिलती है। बकरी पालन बिजनेस के लिए अलग-अलग राज्यों की सरकारें अलग अलग प्रतिशत में सब्सिडी उपलब्ध कराती हैं। बकरी पालन के लिए सबसे अधिक सब्सिडी 90 प्रतिशत हरियाणा सरकार उपलब्ध कराती है ताकि राज्य के पशुपालक किसानों की आय में वृद्धि हो सके। 

बकरी पालन लोन : 50 हजार से लेकर 10 लाख तक उपलब्ध

बता दें कि केंद्र सरकार ने पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय पशुधन मिशन शुरू किया गया है। सरकार इस मिशन के तहत पशुपालन के लिए आकर्षक दरों पर लोन उपलब्ध कराती हैं। बकरी पालन व्यवसाय के लिए दो तरीकों से लोन प्राप्त किया जा सकता है। बिजनेस लोन ऑपरेशन्स के लिए वर्किंग कैपिटल लोन और दूसरा बकरी होल्डिंग्स लोन है। इसमें 50,000 रुपये से 10 लाख रुपये तक का लोन मिलता है। इसके अलावा, कई बैंकों की ओर से बकरी पालन व्यवसाय के लिए 26 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है। इसके लिए पशुपालकों को अपने नजदीकी बैंक से संपर्क करना होता है। किसान बकरियों के पालन के लिए पशु किसान क्रेडिट कार्ड के तहत लोन ले सकते हैं। इसके अलावा मुद्रा योजना के तहत भी लोन ले सकते हैं। इसमें बैंकों की मदद से गैर-कृषि क्षेत्र में लगे व्यक्तियों और उद्यमों को सेवा और विनिर्माण क्षेत्रों में आय उत्पन्न करने वाली गतिविधियों के लिए 10 लाख रूपये तक का मुद्रा लोन देने का प्रावधान है। 

बकरी पालन बिजनेस के लिए यहा से प्राप्त कर सकते हैं लोन

बकरी पालन के लिए बहुत ही आकर्षक दरों पर ऋण उपलब्ध कराने में नाबार्ड सबसे आगे है। यह विभिन्न वित्तीय संस्थानों के सहयोग से पशुपालन के लिए लोन प्रदान करता है।

  • वाणिज्यिक बैंक

  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

  • राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक

  • राज्य सहकारी बैंक

  • शहरी बैंक

  • अन्य बैंक जो नाबार्ड से पुनर्वित्त के लिए पात्र हैं  

बकरी पालन बिजनेस से लाभ 

  • बकरी पालन एक ऐसा व्यवसाय है जिसे कम पूंजी लगाकर 10 से 12 बकरियों से शुरू कर सकते हैं और आने वाले समय में आपके पास डबल बकरी हो जाती है। जिनसे आपको अधिक मुनाफा मिलता है। 

  • बकरी के दूध में अधिक मात्र में औषधी गुण पाये जाते है जिस कारण मौसमी बीमारियां के चलते इसके दूध की बजार में काफी मांग रहती है। इसके दूध से काफी अच्छी कमाई हो जाती हैं।

  • दूध देने वाली बकरियों को बेचकर

  • बकरियों को मांस के रूप में बेचकर

  • भेड़ बकरियों के ऊन व खाल से भी आय प्राप्त की जाती है।

  • भेड़ बकरियों की मींगणियों को खाद के रूप में बेचकर

  • बकरी पालन को सूखा प्रभावित क्षेत्र में खेती के साथ साथ आसानी से किया जा सकता है। 

  • बकरी की खरीदने और बेचने में कोई कठिनाई नहीं आती है। इसके लिए बाजार स्थानीय क्षेत्र में ही मौजूद है। अधिकतर व्यवसायी गांव में आकर भेड़ बकरी की खरीद करके ले जाते हैं।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर  व कुबोटा ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3st5ozQ

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors