ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

फ्रूट कवर बैग : किसानों की 100 समस्याओं का एक समाधान, पेड़ाें पर फल नहीं होंगे खराब

फ्रूट कवर बैग : किसानों की 100 समस्याओं का एक समाधान, पेड़ाें पर फल नहीं होंगे खराब
पोस्ट -06 जुलाई 2023 शेयर पोस्ट

फ्रूट बैग तकनीक ने बागवानी में इन समस्याओं किया समाधान, किसानों को ज्यादा लाभ

किसानों को बागवानी में आम, अमरूद जैसे फलों को मिज, हॉपर, फ्रूट फ्लाई जैसे कीटों के प्रकोप से बचाने के लिए कृषि वैज्ञानिक द्वारा फलों को फ्रूट बैग से कवर करने का सुझाव दिया जा रहा है। उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे आम उत्पादक राज्य में फलों को बचाने के लिए किसानों को काफी ज्यादा पैसे खर्च करना पड़ता है। आईये, फ्रूट बैग तकनीक के बारे में विस्तार से जानें। 

New Holland Tractor

Fruit cover bag : फ्रूट बैग तकनीक से किसान को मिल रहा फलों का अच्छा भाव

देश-विदेश में फल और सब्जियों की तेजी से बढ़ती मांग को देखते हुए पिछले कुछ सालों से किसान बागवानी पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। लेकिन किसानों को बागवानी से पर्याप्त लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसका मुख्य कारण यह है कि किसानों को फलों को मिज, हॉपर, फ्रूट फ्लाई जैसे कीटों और इनसे होने वाली बीमारियों से बचाने लिए कीटनाशकों पर अधिक धन खर्च करना पड़ता है। इससे किसानों की लागत अधिक हो जाती है और मुनाफा घट जाता है। लेकिन अब कृषि वैज्ञानिक बागवानी में फ्रूट बैग तकनीक के लिए किसानों को प्रेरित कर रहे हैं। आम, अमरूद जैसे फलों को मिज,हॉपर, फ्रूट फ्लाई जैसे कीटों से बचाने के लिए फ्रूट बैग से कवर करने के लिए कहा जा रहा है। केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान के वैज्ञानिक संस्थान परिसर में लगे आम के फल को फ्रूट बैग से कवर कर किसानों को प्रोत्साहित कर रहे हैं। इस तरह के कवर से फलों का कीटों से बचाव होता है। वहीं, किसानों को इस पर ज्यादा पैसे भी खर्च नहीं करना पड़ता है। इसके अलावा, फ्रूट कवर बैग में विकसित फल स्वस्थ, आकार में बड़े और अधिक स्वादिष्ट होता है। निर्यात किसानों के लिए फ्रूट कवर बैग तकनीक उपयुक्त है। इससे तैयार फलों के भाव भी किसानों को अच्छे मिलते हैं। 

उत्तर प्रदेश में फ्रूट बैग कवर तकनीक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल

उत्तर प्रदेश कृषि उत्पाद को विदेशों में एक्सपोर्ट करने वाला प्रमुख राज्य है। राज्य के अलग-अलग जिलों से किसानों की फल और सब्जियों काे जापान, कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, दुबई सहित अन्य देशों को एक्सपोर्ट किया जाता है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों के किसान उद्यमी अंतर्राष्ट्रीय मांग के अनुसार बागवानी में फ्रूट बैग तकनीक का इस्तेमाल कर फल का उत्पादन कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में आज किसानों द्वारा फ्रूट बैग कवर तकनीक को सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा, फ्रूट बैग कवर से मलिहाबाद में इस साल 1 लाख से अधिक आम के फलों को कवर किया गया है। 

कीड़ो और फंगस से बचाने में फ्रूट बैग तकनीक कारगर

केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक डॉ प्रभात कुमार शुक्ला कहते हैं कि फ्रूट बैग तकनीक आम, अमरूद जैसे फलों को कीड़ों और फंगस से बचाने का एक कारगर तरीका है। इस तकनीक के इस्तेमाल से किसान फलों को फ्रूट फ्लाई जैसे कीटों और उनसे होने वाले रोगों से बचा सकते हैं। फ्रूट कवर बैग से कवर किए गए फल हापर, मिज, फ्रूट फ्लाई और थ्रिप्स जैसे कीटों की पहुंच से दूर रहते हैं। वहीं, खराब मौसम और आंधी-पानी का भी फलों पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है और फल सुरक्षित रहते हैं। उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर यह तकनीक उत्पादन में आने वाली करीब 100 से अधिक समस्याओं का एक समाधान है। किसान इस तकनीक के इस्तेमाल से कीड़ों और फंगस तथा आंधी और मौसम के प्रतिकूल प्रभाव से फलों की सुरक्षा कर अच्छा मुनाफा हासिल कर सकते हैं। 

बाजार में फलों का डेढ़ से दोगुना मिलता है भाव

अवध आम उत्पादक संघ के महासचिव उपेंद्र कुमार सिंह कहते हैं कि फ्रूट बैग तकनीक (Fruit cover bag) से तैयार फलों से किसानों को बड़ा लाभ मिलता है। इस तरीके से तैयार उत्पाद का आकार सामान्य तकनीक से तैयार उत्पाद से कहीं ज्यादा बड़ा होता है। इसके अलावा, फल का रंग रूप भी साफ होता है, जिसके चलते बाजार में किसानों को इनका भाव भी सामान्य से अधिक मिलता है। आज के वक्त में मलिहाबाद के बहुत से आम की बागवानी करने वाले किसान भाईयों ने इस साल फ्रूट बैग तकनीक को अपनाया है। इससे उन्हें आम के स्वस्थ और बीमारी रहित उत्पादन के लिए कीटनाशक और फंगस नाशक दवाईयों का भी इस्तेमाल नहीं करना पड़ा है। जिससे उनकी उत्पादन में लागत कम आई और उन्हें काफी फायदा भी हुआ है। वहीं, किसानों को इससे तैयार फलों का रंग रूप साफ और आकार में एक जैसे होने की वजह से बाजार में डेढ़ से दोगुना भाव मिले हैं। 

फ्रूट बैग कवर से फलों की क्वालिटी खराब होने से बचाव

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में आम उत्पादक किसानों द्वारा कीड़ा और फंगस से फल के बचाव के लिए फ्रूट बैग कवर का सबसे अधिक प्रयोग किया जा रहा है। यहां आम की बागवानी सबसे अधिक होती है। बारिश होने से यहां आम के फलों में फल, मक्खी और फंगस रोग होने के कारण फल पर कालापन (काले धब्बे) आ जाते हैं, जिससे फल की क्वालिटी प्रभावित होती है। ऐसे में बैग कवर तकनीक इस प्रकार की समस्याओं का कारगर समाधान साबित हो रहा है। इससे तैयार फलों की क्वालिटी खराब होने से बचती है।  आम उत्पादक किसान राजकिशोर का कहना है कि उन्होंने जब से फ्रूट कवर बैग का प्रयोग फलों के लिए किया है, तब से उनके फलों का फल मक्खी, फंगस और रोगों से बचाव हो रहा है। इससे उनका उत्पादन बाजार की मांग के अनुसार हो पा रहा है, जिससे उन्हें बाजार में उत्पाद का काफी अच्छा भाव भी मिल पा रहा है।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Call Back Button

क्विक लिंक

लोकप्रिय ट्रैक्टर ब्रांड

सर्वाधिक खोजे गए ट्रैक्टर