ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

कृषि लोन: 13 लाख से अधिक किसानों को मिला शून्य ब्याज दर पर कृषि लोन, अभी करें आवेदन

कृषि लोन: 13 लाख से अधिक किसानों को मिला शून्य ब्याज दर पर कृषि लोन, अभी करें आवेदन
पोस्ट -12 अगस्त 2023 शेयर पोस्ट

बिना ब्याज के लोन : 13 लाख किसानों को मिला फायदा, जानिए कब आएगा आपका नंबर

कृषि लोन वितरण योजना 2023 : भारत में अधिकतर किसान लघु-सीमांत वर्ग से आते हैं, जिनके पास खेती-किसानी करने के लिए पर्याप्त धनराशि मौजूद नहीं रहती है। ऐसे किसान खेती में निवेश करने के लिए साहूकारों एवं प्राइवेट फाइनेंस बैंकों से कर्ज उठाते हैं। जिस पर किसानों को काफी मोटा ब्याज चुकाना पड़ता है। लेकिन अब  केंद्र सरकार द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड जैसी कई अन्य महत्वकांक्षी योजनाएं चलाई जा रही है। जिनके माध्यम से खेत की तैयारी, फसल के बीज, खाद एवं रासायनिक कीटनाशकों आदि जरूरतों को पूरा करने के लिए किसानों को बेहद सस्ती ब्याज दर पर पैसा दिया जाता है। वहीं अधिकांश राज्यों की सरकारों द्वारा कृषि की क्रेडिट जरूरतों को पूरा करने के लिए क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, सहकारी बैंकों, छोटे फाईनेंस बैंकों और वाणिज्यिक बैंकों के माध्यम से किसानों को बिना ब्याज के शॉर्ट टर्म फसली ऋण दिया जाता है। वहीं, किसानों द्वारा इस शॉर्ट टर्म (छोटी अवधि) के लोन को समय से चुकता करने पर सरकार द्वारा ब्याज ऋण पर सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है। जिससे किसानों को सिर्फ लोन की राशि ही चुकानी पड़ती है।  
 
इस कड़ी में छत्तीसगढ़ सरकार ने कृषि क्षेत्र में छोटे एवं सीमांत किसानों की क्रेडिट जरूरतों को पूरा करने के लिए खरीफ सीजन 2023 के लिए 6100 करोड़ रुपये का कृषि ऋण वितरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया था। राज्य सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य अब लगभग पूरा होने जा रहा है। राज्य में इस वर्ष खरीफ सीजन में अब तक किसानों को 6067 करोड़ 27 लाख 60 हजार रुपए का शॉर्ट टर्म (अल्पकालीन) फसली ऋण दिया जा चुका है। आईये जानते हैं कि राज्य में अब तक कितने किसानों ने इस अल्पकालीन लोन का लाभ उठाया है और इस ऋण को कौन-कौन प्राप्त कर सकते हैं। 

New Holland Tractor

राज्य सरकार ने मंजूर किए थे 6100 करोड़ रुपए

बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार प्रदेश में खेती-किसानी के लिए किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर अल्पकालीन लोन उपलब्ध करवाती है। यह कृषि लोन प्रदेश सरकार द्वारा पहले से ही उपलब्ध कराए जा रहे हैं। लेकिन हाल ही में राज्य सरकार ने कृषि लोन वितरण योजना का विस्तार करते हुए इसमें मछली पालन और उद्यानिकी फसलों की खेती करने वाले किसानों को भी शामिल किया है। वहीं, राज्य सरकार ने इस योजना में इस साल खरीफ सीजन के लिए किसानों को अल्पकालीन ऋण वितरण करने का लक्ष्य भी रखा था। इसके लिए राज्य सरकार ने अपने राज्य बजट से 6100 करोड़ रुपए की धनराशि की भी मंजूरी दी थी। राज्य सरकार द्वारा खरीफ सीजन 2023 में दिए गए लक्ष्य के अनुसार सहकारी बैंक, वाणिज्यिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक एवं अन्य वित्तीय संस्थानों को ब्याज मुक्त अल्पकालीन ऋण वितरण करने के लिए निर्देशित भी किया था। 

13 लाख से अधिक किसानों को मिला बिना ब्याज के अल्पकालीन लोन

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा अल्पकालीन कृषि ऋण के लिए रखा गया लक्ष्य अब लगभग पूर्ण होने वाला है। किसानों को 5 अगस्त 2023 तक करीब 60.27 करोड़ से अधिक रुपए की धनराशि का शॉर्ट  टर्म कृषि ऋण खेती-किसानी के लिए वितरित किया जा चुका है। इसमें राज्य के करीब 13 लाख 62 हजार 42 किसानों का बिना ब्याज के कृषि ऋण मिला है, जो खरीफ वर्ष 2023 के लिए निर्धारित लक्ष्य 6100 करोड़ रुपए का  99.46 प्रतिशत है। वहीं, पिछले साल 5 अगस्त तक राज्य सरकार द्वारा करीब 12 लाख 20 हजार 317 किसानों को 4883 करोड़ 80 लाख 59 हजार रुपए का अल्पकालीन फसली ऋण दिया गया था। जबकि पूरे सीजन में किसानों द्वारा करीब 5563 करोड़ 60 लाख रुपए का ऋण लिया गया था।

राज्य के इन जिलों के किसानों ने उठाया सर्वाधिक लोन 

सहकारी बैंकों एवं अन्य छोटे फाईनेंस संस्थानों द्वारा प्रदर्शित आंकड़ों के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में इस वर्ष खरीफ सीजन के लिए बलोदा बाजार-भाटापारा जिले के सर्वाधिक 1,08,059 किसानों ने ऋण उठाया है। बलोदा बाजार-भाटापारा जिला लोन लेने में पहले नंबर पर रहा है। वहीं, राज्य के बालोद जिला में कृषि ऋण उठाने वाले किसानों की संख्या 1,07,107 है। कृषि लोन लेने में यह जिला दूसरे नंबर है। तीसरे नंबर पर बेमेतरा जिला रहा। इस जिले में खरीफ सीजन 2023 के लिए करीब 99,076 किसानों ने कृषि लोन लिया है।

खरीफ सीजन के लिए इन जिलों के किसानों ने भी उठाया लोन

मिली जानकारी के अनुसार, राज्य के रायपुर जिले में करीब 64286 किसानों ने ऋण लिया है। वहीं, महासमुंद में 75154, धमतरी में 58409, दुर्ग में 70716, राजनांदगांव में 91490, कबीरधाम में 82080, खैरागढ़ में 40500, मानपुर-मोहला-चौकी में 35831, जगदलपुर में 27209, कोण्डागांव में 26845, नारायणपुर में 4611, कांकेर में 60244, दंतेवाड़ा में 2246, सुकमा में 7375, बीजापुर में 11206, बिलासपुर में 55596, गौरेलादृपेण्ड्रादृमरवाही में 5830, मुंगेली में 32960, जांजगीरदृचांपा में 34137, सक्ती में 30109, कोरबा में 16545, सरगुजा में 36565, बलरामपुर में 18670, सूरजपुर में 33767, कोरिया में 13819, सारंगढ़ में 19305, जशपुर 13446, मनेन्द्रगढ़ में 7185, रायगढ़ में 28896 तथा गरियाबंद जिले में 42768 किसानों ने इस खरीफ सीजन के लिए अल्पकालीन कृषि लोन अपने क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक एवं अन्य फाईनेंस बैंकों के से लिया गया है। 

अल्पकालीन कृषि ऋण कौन ले सकते हैं?

राज्य सहकारी विभाग द्वारा अल्पकालीन कृषि ऋण कृषि एवं उद्यानिकी, मछलीपालन, पशुपालन आदि क्षेत्रों से जुड़े लघु और सीमांत किसानों को दिया जाता है। यह लोन राज्य के सहकारी बैंकों एवं अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा उपलब्ध करवाया जाता है। इस लोन को प्राप्त करने के लिए किसानों के पास स्वयं की खेती योग्य भूमि होनी चाहिए। वहीं, मौसमी किसान, शासकीय पट्टेदार या सेवा भूमि के स्वत्व में कृषि भूमि लेता है या अन्य किसी व्यक्ति से कृषि भूमि लीज पर लेकर खेती करता है, तो ऐसे किसान सहकारी बैकों से लोन प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा किसानों के पास कम से कम 2.50 एकड़ कृषि भूमि होनी चाहिए। अल्पकालीन कृषि ऋण प्राप्त करने के लिए इच्छुक व्यक्ति ई-मित्र, पैक्स, सहकारी बैंकों की शाखाओं में ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। 

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Call Back Button

क्विक लिंक

लोकप्रिय ट्रैक्टर ब्रांड

सर्वाधिक खोजे गए ट्रैक्टर