सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

e-Nam Portal : आपकी फसल का मिलेगा ज्यादा दाम, सरकार से मिलते हैं कई फायदे

e-Nam Portal : आपकी फसल का मिलेगा ज्यादा दाम, सरकार से मिलते हैं कई फायदे
पोस्ट - July 15, 2022 शेयर पोस्ट

जानें, क्या है राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) पोर्टल और किसानों को क्या-क्या सुविधाएं मिलती है

किसानों को कृषि क्षेत्र में होने वाली समस्याओं को जानने एवं उनका समाधान करने के लिए केन्द्र सरकार समय-समय पर अभियान चलाती है। इन अभियानों द्वारा कृषि क्षेत्र में किसानों की समस्याओं को जानकर उनका समाधान करने के लिए योजनाएं बनाई जाती है। अक्सर देखा जाता है कि फसल की बुवाई से लेकर कटाई और फिर इनके बाद किसानों को अपनी फसल को बेचने के लिए बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिससे उन्हें नुकसान होता है और अपनी फसल का सही मूल्य भी प्राप्त नहीं कर पाते। इसी क्रम में केन्द्र की मोदी सरकार ने किसानों को अपने फसलों को लेकर होने वाली समस्या को सुलझाने के लिए ई-नाम या राष्ट्रीय कृषि बाजार नाम की योजना को शुरू किया हुआ है। 

New Holland Tractor

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) एक पैन-इंडिया इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल है, जो कृषि से संबंधित उपजों के लिए एक एकीकृत राष्ट्रीय बाजार का निर्माण करने के लिए मौजूदा एग्रीकल्चर मार्केटिंग प्रोड्यूस मार्केटिंग कमेटी (एपीएमसी) मंडी का एक प्रसार है। इस ई-नाम पोर्टल के माध्यम से देश के किसान अपनी फसलों को कहीं से भी और कभी भी ऑनलाइन आसानी से बेच सकते हैं। ऑनलाइन बेची गई फसलों का भुगतान अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकते हैं। तो आइए ट्रैक्टरगुरू की इस पोस्ट के माध्यम से आपको केन्द्र सरकार द्वारा शुरू राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) पोर्टल से संबंधित सभी जानकारी से अवगत करते हैं। इस पोर्टल से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के लिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़े। 

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) पोर्टल

किसानों को फसल बिक्री के समय आने वाली समस्याओं के समाधान के लिए साल 2016 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) पोर्टल की शुरुआत की गई थी। भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा इस ई-नाम पोर्टल को लागू किया गया है। यह एक राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है, जो कृषि उत्पादों के लिए एकीकृत राष्ट्रीय बाजार बनाने हेतु मौजूदा एपीएमसी मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोडता है। जिससें देश के  किसानों को काफी फायदा होता है। देश के किसान इस भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल पर अपनी फसल ऑनलाइन घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से तय मूल्य पर बेच सकते हैं। देश के किसान ई-नाम पोर्टल पर अपना पंजीकरण ऑनलाइन कर सकते हैं। 

इतने किसान और व्यापारी ई-नाम प्लेटफार्म पर पंजीकृत हुए

किसानों के लिए कृषि उत्पादों के विपणन को आसान बनाने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, 14 अप्रैल 2016 को 21 मंडियों के साथ प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा ई- नाम की शुरूआत की गई, जो अब 18 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों में 1000 मंडियों तक पहुँच गई है। भारत सरकार द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार, 8 मार्च तक इस पोर्टल पर पूरे देश की 1 हजार मंडियां रजिस्टर हैं। साथ ही इन 1 हजार मंडियों में पोर्टल पर फिलहाल 1.72 करोड़ से अधिक किसान और 2.19 लाख व्यापारी रजिस्टर हैं। केन्द्रीय कृषि मंत्री तोमर के मीडिया में प्रकाशित बयानों के अनुसार 1000 मंडियों में ई-नाम की सफलता को देखते हुए अब 1000 अतिरिक्त मंडियों को जोड़ने का निर्णय लिया गया है। 

नई सुविधाओं को किया गया लॉन्च

जानकारी के लिए बता दें कि कृषि उत्पादों के विपणन को आसान बनाने के लिए आरम्भ किए गए ई-नाम पोर्टल को आरम्भ हुए करीब 5 साल से अधिक हो चुके हैं।  ई-नाम पोर्टल की पांचवी वर्षगाठ पर केन्द्र कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने देश के किसानों के लिए तीन नयी सुविधाओं को लॉन्च किया था। 

  1. मंडी जानकारी पृष्ठ किसानों को एक ही वेब पेज में संबंधित राज्य की ई-नाम मंडियों में कारोबार की जाने वाली जिंसों के वास्तविक समय मूल्य प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है।

  2. अब ई-नाम पर प्रदान किए गए सहकारी व्यापार मॉड्यूल का उद्देश्य सहकारी समितियों को अपने संग्रह केंद्रध्/गोदामों से एपीएमसी में उपज लाए बिना सदस्यों के फार्मगेट के पास व्यापार करने की सुविधा प्रदान करना है।

  3. भारतीय मौसम विज्ञान (आईएमडी), मौसम पूर्वानुमान सूचना समेत ई-नाम मंडियों और आसपास के क्षेत्रों के लिए वर्षा और आंधी-तूफान की सूचना के साथ अधिकतम-न्यूनतम तापमान की सूचना मिलेगी। मौसम सूचना से कटाई करने और विपणन निर्णय लेने में किसानों को अतिरिक्त मदद मिलेगी।  

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के डॉक्यूमेन्ट्स

  • आधार कार्ड

  • पहचान पत्र

  • बैंक पासबुक

  • मोबाइल नंबर

  • पासपोर्ट साइज फोटो

ई-नाम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसें करें 

  • ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए इच्छुक किसान को सबसे पहले ई-नाम पोर्टल की आधिकारिक https://www.enam.gov.in/web/ के लिंक पर क्लिक के माध्यम से ई-नाम पोर्टल पार जाएं

  • उसके बाद होम पेज पर रजिस्ट्रेशन नाम के ऑप्शन पर क्लिक करें.

  • इसके बाद आपके फोन/कम्प्यूटर की स्क्रीन पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म भी खुल हो जाएगा। इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गयी सारी जानकारी को भरकर सबमिट बटन पर क्लिक कर के रजिस्ट्रेशन फॉर्म को सबमिट करा दें।

  • ध्यान रहें रजिस्ट्रेशन फॉर्म के साथ अपनी पासबुक की कॉपी या कैंसिल चेक और आईडी प्रूफ की स्कैन कॉपी जरूर डालें। 

  • इस प्रक्रिया से आपका रजिस्ट्रेशन ई-नाम पोर्टल में पूरा हो जायेगा।

  • रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पूरा होने के बाद किसान मंडियों में अपने कृषि उत्पादों को बेचने के लिए लॉगिन कर सकते हैं। 

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह पॉवरट्रैक ट्रैक्टर  व फार्मट्रैक ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3yjB9Pm

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors