ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

मखाना की खेती पर मिलेगी 75 प्रतिशत सब्सिडी, आवेदन प्रक्रिया शुरू

मखाना की खेती पर मिलेगी 75 प्रतिशत सब्सिडी, आवेदन प्रक्रिया शुरू
पोस्ट -25 अक्टूबर 2023 शेयर पोस्ट

किसानों के लिए बड़ी खबर, मखानें की खेती, भंडारण और बीज पर मिलेगी 75  प्रतिशत की सब्सिडी

Makhana Farming : किसानों की भलाई के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं व कार्यक्रम का क्रियान्वयन किया जाता है। जिनके माध्यम से किसानों की आय बढ़ाने के लिए किसानों को नई-नई खेती के लिए प्रोत्साहित भी किया जाता है। इस बीच मखाने की खेती करने वाले किसानों के लिए बड़ी खबर है। किसानों का रूझान मखाने की खेती की तरफ करने के लिए सरकार ने मखाने की खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी देने का फैसला लिया है। इसके लिए सरकार ने एक खास योजना चलाकर मखाना किसानों को मखाने की खेती करने, मखाना भंडारण और बीज के लिए बंपर सब्सिडी देने का निर्णय लिया है। सरकार की योजना के तहत राज्य के विभिन्न जिलों में मखाने की खेती करने वाले किसानों को विभिन्न कार्य के लिए सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी। आईए, इस पोस्ट की मदद से पूरी खबर के बारे में विस्तार से जानें।

New Holland Tractor

मखाना विकास योजना / Makhana Vikas Yojana

दरअसल, दक्षिण बिहार में बडे़ पैमाने पर मखाने की खेती की जाती है। यहां के किसानों की जीविका का मुख्य साधन मखाने की खेती है। खेती से प्राप्त मखाने के बीजों की प्रोसेंसिंग कर किसान मखाना बनाते हैं। इसे बाजार में बेचकर काफी अच्छा लाभ कमाते हैं। क्योंकि मखाना ड्राईफ्रूट्स में आता है और दुनियाभार में इसकी मांग उच्च स्तर पर है। वहीं, बिहार में उत्पादित होने वाले मखाने को भौगौलिक संकेतक (जीआई) टैग भी मिल चुका है। इन्हीं सबको देखते हुए बिहार राज्य सरकार ने मखाना विकास योजना 2023-24 की शुरूआत की है। सरकार इस योजना के तहत राज्य में मखाने की खेती का विस्तार करना चाहती है। इसके लिए सरकार योजना के तहत मखाने की खेती करने, मखाना भंडारण और बीज वितरण कार्यक्रम के माध्यम से किसानों को 75 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रही है। राज्य सरकार की इस योजना में बिहार के 10 जिलों कटिहार, पूर्णिया, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, सहरसा, दरभंगा और खगड़िया में किसानों को सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा।

कृषि विभाग ने ट्वीट कर दी जानकारी

मखाने की खेती के विस्तार करने के लिए कृषि विभाग, बिहार सरकार ने मखाना विकास योजना 2023-24 लागू की है। जिसकी जानकारी कृषि विभाग ने एक आधिकारिक ट्वीट के माध्यम से दी है। बिहार सरकार कृषि विभाग ने ट्वीट में कहा, बिहार का मखाना, पोषक तत्वों का खजाना है और इसकी धूम दुनियाभर में है। इसलिए मखाने की खेती करने पर राज्य सरकार 75 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान कर रही है। मखाना के उत्पादन और उत्पादकता के साथ-साथ किसानों की आय में बढ़ोतरी के उद्देश्य से बिहार सरकार ने मखाना विकास योजना (2023-24) के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू भी कर दी है।

मखाना की उन्नत प्रजाति स्वर्ण वैदेही व सबौर मखाना-1 की खेती पर सब्सिडी

बिहार कृषि विभाग द्वारा मखाने की खेती करने वाले किसानों को मखाना की उन्नत प्रजाति स्वर्ण वैदेही व सबौर मखाना-1 की खेती पर अनुदान दिया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार ने प्रति हेक्टेयर इकाई लागत लगभग 97 हजार रुपए तय की है, जिस पर किसानों को 75 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जाएगी। यानी मखाने की खेती करने पर 75,750 रुपए सब्सिडी के रूप में सरकार की ओर से मिलेंगे। लेकिन यह सब्सिडी पूर्णिया, दरभंगा, मधेपुरा, किशनगंज जिले के किसानों को ही दी जाएगी।
 
मखाना का नया क्षेत्र विस्तार के लिए इन जिलों के किसान ले सकेंगे लाभ

योजना के तहत मखाना का नया क्षेत्र विस्तार की इकाई लागत 97 हजार रुपए तय की गई है और इस पर राज्य सरकार की ओर से 75 फीसदी सब्सिडी मिलेगी। मखाना का नया क्षेत्र विस्तार (खेत प्रणाली) के लिए कटिहार, पूर्णिया, दरभंगा, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, सहरसा और खगड़िया जिलों के किसान इसका लाभ ले सकेंगे।  
 
मखाना स्टोरेज हाउस (5 MT) स्थापित करने पर अनुदान

मखाना विकास योजना 2023-24 के तहत राज्य सरकार किसानों का मखाना स्टोरेज हाउस स्थापित करने पर 75 प्रतिशत की सब्सिडी प्रदान करेगी। इसके लिए सरकार ने मखाना भंडारण गृह (5MT) इकाई की लागत 10 लाख रुपए तय की है, जिस पर किसानों को 75 प्रतिशत तक सब्सिडी प्राप्त होगी। सरकार की तरफ से मखाना स्टोरेज हाउस यूनिट स्थापित के लिए कटिहार, पूर्णिया, दरभंगा, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा और सहरसा जिलाें के लक्ष्य तय किए गए हैं।
 
मखाने के बीज पर 75 प्रतिशत का अनुदान

कृषि विभाग, बिहार सरकार की ओर से मखाना विकास योजना के तहत किसानों को मखाने के बीज का वितरण किया जाएगा। मखाने के बीज की कीमत 5400 रुपए प्रति हेक्टेयर पर 75 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। बिहार के कटिहार, पूर्णिया, दरभंगा, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, सहरसा और खगड़िया जिला के किसान इस योजना के तहत मखाने के बीज पर अनुदान का लाभ ले सकेंगे।

किसान यहां करें आवेदन

मखाना खेती विस्तार के लिए कृषि विभाग, बिहार सरकार ने मखाना विकास योजना 2023-24 के लिए कटिहार, पूर्णिया, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, सहरसा, दरभंगा और खगड़िया जिले में लक्ष्य निर्धारित किए हैं। इन लक्षित जिला के इच्छुक किसान मखाना विकास योजना 2023-24 के तहत अनुदान का लाभ लेने के लिए उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग, बिहार सरकार की आधिकारिक वेबसाइट https://horticulture.bihar.gov.in/  पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा, अधिक जानकारी के लिए  किसान संबंधित जिला के सहायक निदेशक उद्यान कार्यालय से भी संपर्क कर सकते हैं।
 
योजना की विस्तृत दिशा-निर्देश

बिहार में मखाना की उन्नत प्रजाति (स्वर्ण वैदेही प्रभेद एवं सबौर मखाना-1)  के बीज की खेती, बीज वितरण, मखाना का नया क्षेत्र विस्तार (खेत प्रणाली), मखाना भंडार गृह (5 MT) तथा प्रशिक्षण के तहत मखाना के उत्पादन एवं उत्पादकता के साथ-साथ किसानों की आय में वृद्धि के उद्देश्य से मखाना विकास योजना का क्रियान्वयन किया जाना है।

  • योजना के माध्यम से  बिहार के लक्षित 10 जिलों कटिहार, पूर्णिया, मधुबनी, किशनगंज, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, सहरसा, दरभंगा एवं खगड़िया जिलों के किसान योजना का लाभ ले सकेंगे।
  • मखाना विकास योजना अन्तर्गत मखाने की खेती करने पर किसानों को न्यूनतम 0.25 एकड़ (0.1 हेक्टेयर) और अधिकतम 10 एकड़ (4 हेक्टेयर) पर ही सब्सिडी का लाभ मिलेगा।
  • चयन हेतु जिला के लक्ष्य अन्तर्गत 16 प्रतिशत अनुसूचित जाति तथा 1 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। 
  • किसान चयन में हर वर्ष 30 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाएगा।
  • मखाना भंडारण गृह (5 MT) का अनुमोदित Model Estimate और संरचना का नक्शा दिये गए लिंक पर उपलब्ध है, जिसे आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है।
  • भू-स्वामित्व प्रमाण-पत्र 3 वर्ष पूर्व से अपडेटेड व राजस्व रसीद 1 वर्ष पूर्व का / एकरारनामा चालू वित्तीय वर्ष का होना अनिवार्य है।
  • एकरारनामा का प्रारूप दिये गये लिंक पर उपलब्ध है, जिसे आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है।
  • नियमानुसार अनुदान राशि DBT कार्यक्रम के तहत् CFMS द्वारा भुगतान किया जाएगा।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Call Back Button

क्विक लिंक

लोकप्रिय ट्रैक्टर ब्रांड

सर्वाधिक खोजे गए ट्रैक्टर