ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

गन्ने की बंपर पैदावार के लिए इस विधि से करें बुआई, होगा लाभ

गन्ने की बंपर पैदावार के लिए इस विधि से करें बुआई, होगा लाभ
पोस्ट -14 अक्टूबर 2023 शेयर पोस्ट

एक्सपर्ट द्वारा बताई गई इस विधि से करें गन्ना की बुआई, बढ़ेगा उत्पादन

शरदकालीन गन्ने की बुआई शुरू हो चुकी है। बुआई के बारे में कृषि विशेषज्ञों द्वारा किसानों को कई सुझाव दिए जा रहे हैं ताकि गन्ना का उत्पादन रोगमुक्त हो सके और पैदावार भी अच्छी हो सके। साथ ही विशेषज्ञों का मानना है कि गन्ना का अच्छा उत्पादन तभी हो सकता है जब गन्ना की स्वस्थ एवं उपचारित बुआई की जाए। उप गन्ना आयुक्त ओपी सिंह ने गन्ने की अच्छी पैदावार के लिए एक ऐसी विधि बताई है, जिससे गन्ना का उत्पादन तो ज्यादा होगा ही साथ ही गन्ने में रोग लगने की संभावना भी बेहद कम हो जाएगी।

New Holland Tractor

ट्रैक्टर गुरु के इस पोस्ट में हम गन्ने का उत्पादन बढ़ाने के उपाय, उपचारित गन्ना बीज की विधि, बुआई की सही विधि के बारे में जानकारी दे रहे हैं। 

किन गन्ना किस्मों का करें चयन

गन्ने की खेती में अच्छी पैदावार के लिए जरूरी है कि उत्कृष्ट किस्म के गन्ना बीजों का चयन किया जाए। रोग रोधी गन्ना की नई प्रजाति की बुआई करें और ज्यादातर किसानों ने इस बार गन्ना 0238 की बिजाई की है, जो रोगग्रस्त हो चुकी है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक नई गन्ना की प्रजाति को 0118, कोसा 13235, को 15023 और को 14201 की बुआई करें। इन चार किस्मों की बुआई से गन्ना की पैदावार में बढ़ोतरी तो होगी ही, साथ ही यह किस्में ज्यादा से ज्यादा रोग प्रतिरोधक क्षमता से लैस है।

ज्यादा पैदावार के लिए इस विधि से करें बुआई 

गन्ना का उत्पादन बढ़ाने और रोगमुक्त रखने के लिए ट्रेंच विधि से गन्ने की बुआई करनी चाहिए। ओपी सिंह ने किसानों को शरदकालीन गन्ना की बुआई की जानकारी देते हुए बताया कि किसान अच्छी पैदावार के लिए स्वस्थ गन्ने का चयन करें। काफी पतला और बीमार गन्ने का उपयोग बुआई के लिए बिल्कुल भी न करें। गन्ने की बुआई करते समय एक बात का ध्यान रखना आवश्यक है कि गन्ने की बुआई में एक आंख या दो आंख के टुकड़ों का ही प्रयोग करें। तीन या चार आंख के टुकड़े की बुआई करने पर जमाव प्रतिशत घट जाता है। 

बीजोपचार का रखें ध्यान

रोग रोधी नई प्रजाति के गन्ना की बिजाई करें। उप गन्ना आयुक्त ओपी सिंह ने बताया कि बुआई करने से पूर्व गन्ना का बीजोपचार बेहद जरूरी है। साथ ही बीज के उपचार के अलावा बुआई के बाद भूमि का उपचार भी जरूर करें। खेत की बुआई से पूर्व और अंतिम जुताई पर ट्राईकोडर्मा डालकर भूमि का भी उपचार करें। साथ ही जहां तक संभव हो ट्रेंच विधि से गन्ने की बुआई करें। इस तकनीक में खेत तैयार करने के पश्चात ट्रेंच ओपनर से एक फुट चौड़ी और लगभग 25-30 सेंटीमीटर गहरी क्यारी बनाते हैं। इस तकनीक में एक क्यारी से दूसरी क्यारी के बीच की दूरी 120 सेंटीमीटर होती है।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Call Back Button

क्विक लिंक

लोकप्रिय ट्रैक्टर ब्रांड

सर्वाधिक खोजे गए ट्रैक्टर