सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

लाल भिंडी की खेती : जानें, खेती का तरीका, किसान को कैसे होगा 2 गुना मुनाफा

लाल भिंडी की खेती : जानें, खेती का तरीका, किसान को कैसे होगा 2 गुना मुनाफा
पोस्ट -09 दिसम्बर 2022 शेयर पोस्ट

कैसे करे लाल भिंडी की खेती : जानिए, खेती के तरीके, अनुकूल जलवायु, बीज, व उपयुक्त मिट्टी

लाल भिंडी की खेती (Cultivation of Red Okra) : भारत में सब्जियों की बागवानी काफी बड़े पैमाने पर होती है। जिसमें लगभग हर प्रकार की सब्जियों की बागवानी (gardening) की जाती है। आलू, प्याज, टमाटर, गोभी, बैंगन, तोरई, लौकी एवं भिंडी सहित अन्य कई प्रकार की सब्जियों की खेती किसान काफी बड़े पैमाने पर करते है। देश में सब्जियों में लाल भिंडी बेहद लोकप्रिय है। सब्जियों में भिंडी का प्रमुख स्थान हैं, जिसे लोग लेडी फिंगर या ओकरा के नाम से भी जानते हैं। यह आम भारतीयों के घरों में बड़े चाव से खाया जाती है। लाल भिंडी की खेती देश के किसान बड़े पैमाने पर करते हैं। इसकी खेती ग्रीष्म तथा शरद, दोनों ही ऋतुओं में होती है। देश में भिंडी की खेती वर्ष में दो बार की जाती हैं। इसलिए वर्ष भर स्थानिय बाजारों में भिंडी उपलब्ध रहती हैं। इसकी बुवाई फरवरी और मार्च महीने में और वर्षा ऋतु में भिंडी की बुवाई जून और जूलाई के महीने में करना फायदेमंद होता हैं। किसानों के बीच लाल भिंडी की खेती का चलन बढ़ा है। कृषि वैज्ञानिकों की माने तो ये हरी भिंडी से भी ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक है। वहीं, मार्केट में इसकी कीमत भी कई गुना ज्यादा है। यह सामान्य भिंडी की खेती से 4 गुना अधिक मुनाफा किसानों को दे सकती है। बिक्री और कीमत की बात करें तो इस प्रकार की भिंडी साधारण भिंडी की तुलना में 5-7 गुना ज्यादा महंगी होती है। आईये ट्रैक्टरगुरु के इस लेख के माध्यम से इसकी खेती का तरीका एवं इससे होने वाली आय के बारे में जानते है। 

New Holland Tractor

लाल भिंडी के बारे में संक्षिप्त विवरण

वैज्ञानिकों की माने तो ये हरी भिंडी जैसे ही इस लाल भिंडी को कुछ साल पहले वाराणसी के इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ वेजिटेबल ने विकसित किया था। वैज्ञानिकों का मानना है कि सामान्‍य भिंडी के मुकाबले इसमें पोषक तत्व ज्‍यादा हैं। इसे विकसित करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है, जिस प्रकार क्‍लोराफिल के वजह से आम भिंडी का रंग हरा होता है, उसी तरह एंथोसायनिन नाम पिगमेंट के कारण इस भिंडी का रंग लाल है। इसे विकसित करने में करीब 23 साल का समय लगा है। इसकी कीमत 100 से 500 रुपये किलो के बीच है। इसके बीज भी उपलब्‍ध होने के कारण इसे दूसरे राज्‍यों में भी उगाया जा रहा है। उत्‍तर प्रदेश के अलावा मध्‍य प्रदेश, गुजरात, महाराष्‍ट्र, छत्‍तीसगढ़ में लाल भिंडी की खेती की जा रही है। वैज्ञानिकों की माने तो लाल भिंडी खेती भी सामान्य हरी भिंडी की खेती की तरह ही की जाती है। हरी भिंडी जैसे ही लाल भिंडी के पौधे की लंबाई एक से डेढ़ मीटर तक होती है। इसे भी खरीफ और ग्रीष्म दोनों मौसम में उगाया जा सकता है। इसके लिए सामान्य बारिश काफी होती है। वहीं, अधिक गर्मी और अधिक सर्दी अच्छी नहीं होती। 

सामान्य भिंडी से ज्यादा महंगी

इसे विकसित करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि यह भिंडी सामान्य हरे रंग के बजाय लाल रंग की होती है। यह हरी भिंडी से भी ज्यादा फायदेमंद और पौष्टिक है। यह उन लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है, जो हृदय और ब्लड प्रेशर मधुमेह, हाई कोलेस्ट्रॉल जैसी कई गंभीर समस्याओं सामना कर रहे हैं। इस भिंडी में एंटीऑक्सीडेंट्स, कैल्शियम और आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों की वजह से यह सामान्य भिंडी से ज्यादा महंगी है। इसकी कीमत 100 रुपए से लेकर 500 रुपए किलो के बीच है। इस हिसाब से किसान इसकी एक एकड़ में खेती कर काफी बढि़या मुनाफा कमा सकते है। 

लाल भिंडी की खेती कैसे करें?

वैज्ञानिकों का कहना है, कि समान्य भिंडी की तरह लाल भिंडी (Red okra farming)  खेती होने लगी है। अब इसकी खेती उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश, गुजरात, महाराष्‍ट्र, छत्‍तीसगढ़ जैसे राज्य में की जा रही है। सामान्य भिंडी की तरह ही इसके लिए भी गर्म और आद्र कम जलवायु उपयुक्त होती है। इसकी बुवाई भी हरी भिंडी की ही तरह साल में दो बार की जा सकती है। फरवरी और मार्च महीने में और वर्षा ऋतु में बुवाई जून और जूलाई के महीने में की जा सकती है। लाल भिंडी (Red okra farming) खेती के लिए अच्छे जल निकासी वाली जीवांश और कार्बनिक पदार्थ युक्त बलुई दोमट मिट्टी सर्वोत्तम मानी गई है। अच्छी पैदावार और गुणत्तापूर्ण फल के लिए भूमि का पीएच मान 6.5 से 7.5 तक होना चाहिए। खारी, नमक वाली या घटिया निकास वाली मिट्टी में इसकी खेती ना करें। 

लाल भिंडी की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु एवं तापमान

हरी भिंडी की तरह ही इसकी खेती भी उष्ण तथा शुष्क दोनों क्षेत्रों में होती हैं। लाल भिंडी की खेती में तेज और नमी वाले जलवायु को उपयुक्त माना गया हैं। इसकी खेती के लिए ज्यादा गर्मी और ज्यादा सर्दी दोनों ही अच्छी नहीं रहती हैं। इसके बीजो को अंकुरित होने के लिए 20 डिग्री तापमान की जरूरत होती हैं। पौधो को विकसित होने के लिए 27 से 30 डिग्री तापमान की जरूरत होती हैं।

लाल भिंडी की खेती में लागत

बनारस के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ वेजिटेबल रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिकों का कहना है कि आप इस रिसर्च सेंटर से लाल भिंडी की काशी लालिमा किस्म के बीज करीब 2500 रुपये प्रति किलो के भाव से मिल सकते हैं। यदि आप इसकी खेती एक हेक्टेयर में करते है, तो आपको लगभग 2 किलो भिंडी के बीज की आवश्यकता पड़ेगी। लाल भिंडी के बीज की बुवाई 1x 3 फुट की दूरी पर आपको एक हेक्टेयर में बीज के लिए करीब 5 हजार रुपये तक खर्च करने पड़ सकते है। इसके अलावा खेत की जुताई, बुआई, सिंचाई, उर्वरक, कीटनाशक, हार्वेस्टिंग, ट्रांसपोर्टेशन, लेबर आदि में करीब 2 लाख रुपए तक का खर्च हो सकता है। एक हेक्टेयर में करीब 120-130 क्विंटल लाल भिंडी की पैदावर मिल सकती है, जो रिटेल मार्केट में करीब 100-500 रुपए किलो में बिकती है, जबकि थोक में यह आसानी से 70-80 रुपए किलो में बिक जाएगी। इस हिसाब से आपको एक हेक्टेयर में खेती से करीब 7-8 लाख रुपये की कमाई हो सकती है। 

लाल भिंडी की खेती की तैयारी कैसे करें?

वैज्ञानिकों की मानें तो इसकी खेती के लिए भी सामान्य भिंडी की खेती की तरह ही तैयारी करनी होती है। इसके खेत तैयार करने के लिए कल्टीवेटर या देसी हल की मदद से सबसे पहले खेत की अच्छे से जुताई कर उसे खुला छोड़ें। इसके बाद खेत में 15 से 20 क्विंटल प्रति एकड़ के हिसाब से गोबर की खाद डालकर रोटावेटर की सहायता से खेत की अच्छे से जुताई कर गोबर की खाद मिट्टी में अच्छे से मिलें। रोटावेटर के उपयोग के लिए किसान स्वराज ट्रैक्टर ले सकते है क्युकी ये ट्रैक्टर मॉडल्स खेत की जुताई के लिए सबसे अच्छा है, सबसे जयादा बिकने वाला ट्रेक्टर में स्वराज 744 एफई, स्वराज 744 XT, और स्वराज 855 है। इन सभी ट्रैक्टर की कीमत किसानो के लिए बजट के अनुसार है। बुवाई के पहले ही नाइट्रोजन खाद की एक तिहाई मात्रा और फॉस्फोरस, पोटाश की पूरी मात्रा खेत में मिला दें। 

FAQ

Ques.1 लाल भिंडी का बीज कितने रुपए किलो है?

Ans. लाल भिंडी के बीज करीब 2500 रुपये प्रति किलो के भाव से मिल सकते हैं।

Ques.2 लाल भिंडी कैसे उगाएं?

Ans. लाल भिंडी के बीजों उपचारित कर एक से सवा सेन्टीमीटर की गहराई में कतार से कतार जिसकी दूरी 30 सेंटी मीटर व पौध से पौध की दूरी 15 सेंटी मीटर सीधे बुआई करें।

Ques.3 लाल भिंडी कौन से महीने में लगाई जाती है?

Ans. फरवरी और मार्च महीने में और वर्षा ऋतु में बुवाई जून और जूलाई के महीने में की जा सकती है।

Ques.4 लाल भिंडी का बीज सबसे अच्छा कौन सा है?

Ans. बनारस के वेजिटेबल रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित लाल भिंडी की दो उन्नत किस्में हैं पहली आजाद कृष्णा एवं दूसरी काशी लालिमा।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह वीएसटी ट्रैक्टर व कैप्टन ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors