सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

फालसा की खेती : अनुपजाऊ भूमि में फालसा की उन्नत खेती से कमाएं लाखों का मुनाफा

फालसा की खेती : अनुपजाऊ भूमि में फालसा की उन्नत खेती से कमाएं लाखों का मुनाफा
पोस्ट - May 31, 2022 शेयर पोस्ट

सूखाग्रस्त इलाकों में किसानों के लिए लाभदायक बनी फालसे की खेती

आपने फालसा शब्द तो सुना ही होगा। यह जितना सुनने मे अच्छा लगता है उतना ही इसका स्वाद भी लजीज है। ठंडी तासीर वाला यह फल सूखा प्रभावित और पठारी क्षेत्रों में बहुतायत से होता है। बता दें कि इसकी फसल महाराष्ट्र, कर्नाटक,तमिलनाडु एवं ओडिसा के अलावा उत्तरप्रदेश के दक्षिणी जिले, बुन्देलखंड, कोंकण में होती है। राजस्थान के कुछ सूखाग्रस्त इलाकों में इसे उगाया जा सकता है। आज हम आपको ट्रैक्टर गुरू की इस पोस्ट में आपको फालसा की फसल के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं।  इससे किसान भाई लाखों रुपये सालाना मुनाफा भी कमा सकते हैं। इसे शरबत बेरी या छरबेरी भी कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम ग्रेविया एशियाटिक है। फालसा को भारतीय नस्ल का पेड़ ही माना गया है। इसे भारत, पाकिस्तान, नेपाल, लाओस, थाइलैंड और कम्बोडिया में भी उगाते हैं। ऑस्ट्रेलिया और फिलिपींस में इसे खरपतवार मानते हैं। फालसा तिलासिया परिवार का एक झाड़ीनुमा पेड़ है। तिलासिया परिवार में करीब 150 प्रजातियाँ हैं। लेकिन फल सिर्फ फालसा का ही खाया जाता है। फालसा की खेती बहुत शुष्क या सूखापीडि़त या अनुपजाऊ क्षेत्रों बेहद आसानी से की जा सकती है, क्योंकि इसके पौधे अनुपजाऊ मिट्टी में भी पनप सकते हैं। इसके पौधे सूखा रोधी होते हैं और अधिक तापमान पर भी जीवित रह सकते हैं। ऐसे क्षेत्रों से सम्बंधित किसान इसकी खेती कर काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते है। देश के विभिन्न क्षेत्रों में वर्तमान समय में किसान इसकी खेती कर अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे है। यदि आप भी अपने सूखापीडि़त क्षेत्र में इसकी खेती कर अपनी अनुपजाऊ भूमि से मुनाफा कमाना चाहते हैं तो ट्रैक्टर गुरु की इस पोस्ट को अवश्य पढ़ें। 

New Holland Tractor

फालसा का परिचय

फालसा (वानस्पतिक नाम- श्ग्रेविया एशियाटिकाश्) एक मध्यम आकार का पेड़ है। इस पर छोटे-छोटे बेर के आकार के फल लगते है। यह मध्य भारत के वनों में प्रचुरता से पाया जाता है। फालसा के फल स्वाद में खट्टे-मीठे होते हैं। गर्मियों में इसके फलों का शर्बत ठंडक प्रदान करता है और लू तथा गर्मी के थपेड़ों से भी आराम दिलाता है। फालसा का फल करीब एक सेंटीमीटर व्यास वाला गोलाकार होता है। कच्चे फालसा का रंग मटमैला लाल और जामुनी होता है। मई-जून में पूरी तरह पकने पर फालसा का रंग काला हो जाता है। इसका स्वाद खट्टा-मीठा या चटपटा होता है। फल में बीज पर गूदे की पतली परत होती है। फालसे की झाड़ी में काँटे नहीं होते। इन्हें हाथों से तोड़ते हैं। उपज के लिहाज से देखें तो फालसा के फल थोड़ी-थोड़ी मात्रा में ही पकते हैं। फालसा सूखा रोधी होते हैं। इन पर प्रतिकूल मौसम का बहुत कम असर पड़ता है। ये 44-45 डिग्री सेल्सियस का तापमान भी आसानी से बर्दाश्त कर लेते हैं। आम भाषा में बोला जाये तो फालसा की खेती बहुत शुष्क या सूखापीडि़त क्षेत्रों के लिए बेहद उपयोगी है। 

फालसा की व्यावसायिक खेती 

फालसा के पौधा सहिष्णु तथा सूखारोधी होने के कारण फालसा अनुपजाऊ एवं लवणीय मृदा में भी आसानी से उगाया जा सकता है। इसका फल बाजारों में खासे महंगा बिकता हैं जिस वजह से फालसे की खेती को लोकप्रिय बनाया जा सकता है, क्योंकि इसके पौधे अनुपजाऊ मिट्टी में भी पनप सकते हैं। फालसे की फसल मिट्टी के कटाव को रोकने के साथ हवा के बहाव को बाधित करती है। फालसा के पौधे की पतली शाखाओं का इस्तेमाल टोकरी बनाने में किया जा सकता है। इसकी छाल में एक चिपचिपा पदार्थ पाया जाता है, जिसका उपयोग गन्ने के रस को साफ करने के लिए किया जा सकता है, जिससे इस काम के लिए प्रयुक्त रसायनों के इस्तेमाल से बचा जा सके।

फालसा की उपज को बढ़ाने का तरीका

दुर्भाग्यवश, फालसे की खेती किसानों के बीच लोकप्रिय नहीं है, क्योंकि इसकी खेती के तरीकों के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। उपज के लिहाज से देखें जाये तो फालसा के फल थोड़ी-थोड़ी मात्रा में ही पकते हैं। इन्हें हफ्ते भर से ज्यादा वक्त के लिए बचा पाना मुश्किल होता है, क्योंकि ये जल्दी खराब होने लगते हैं। इसके एक पेड़ से औसतन 3 से 5 किलोग्राम ही उपज होती है, लेकिन कुछ अध्ययन बताते हैं कि उन्नत ढंग से एवं गोबर और खाद के उपयोग से इसकी उपज बढ़ाई जा सकती है। हालांकि इसके बावजूद एक पेड़ प्रतिवर्ष 10 किलो से अधिक उपज नहीं दे पाता। यह भी कहा जाता है कि उपज बढ़ाने के लिए पेड़ों की छंटाई की जानी चाहिए, लेकिन अधिकतम उपज पाने के लिए छंटाई की क्या सीमा होगी, इसका अध्ययन किया जाना बाकी है।

भारत में कहाँ होती है फालसा की खेती 

फालसा के कच्चे फलों को भी कृत्रिम तरीके से नहीं पकाया जा सकता क्योंकि इसका फल पेड़ पर ही पकता है। यह फल थोड़ी-थोड़ी मात्रा में ही पकते हैं। इसके फलों को कोल्ड स्टोरेज में भी इसे ज्यादा दिनों के लिए रख नहीं सकते। इसीलिए फालसा की खेती बहुत लोकप्रिय नहीं है। इसकी खेती बहुत कम जगहों पर, वह भी बड़े शहरों के आसपास ही होती है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात में कई किसान फालसा की व्यावसायिक खेती भी कर रहें हैं। फालसा हिमालयी क्षेत्रों में भी उगता है। वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसन्धान परिषद के तहत इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन ने हाल ही में जम्मू क्षेत्र में फालसे की खेती को प्रोत्साहित करने के काम को हाथ में लिया है। ताकि इस स्वादिष्ट फल को उस क्षेत्र से विलुप्त होने से बचाया जा सके। संस्थान ने फालसा से बने एक हेल्थ ड्रिंक बनाने की तकनीक भी विकसित की है। इसे वैष्णो देवी के श्रद्धालुओं को बेचा भी जा रहा है।

फालसा खेती के लिए जलवायु व तापमान 

फालसा का पौधा सूखा सहन करने वाला है। फालसा के फलने-फूलने के दौरान गर्म और शुष्क वातावरण  उपयुक्त होता है। सर्दियों के मौसम में, यह निष्क्रिय हो जाता है और इसकी पत्तियों को बहा देता है। यह मार्च में फिर से शुरू होता है। जून का उच्च तापमान फलों को पकने में मदद करता है। फालसा पौधा अच्छी तरह से परिवर्तनशील जलवायु परिस्थितियों में पनपता है, इसे ठंडे तापमान से सुरक्षा  की आवश्यकता होती है। आमतौर पर फल पकने के लिए गर्म तापमान की आवश्यकता होती है। फालसा के पौधे तापमान को 44 से 45 डिग्री सेल्सियस तक सहन कर सकते हैं। फलों के विकास के दौरान उच्च तापमान का स्तर फलों के पकने का सहायक है।

फालसा की खेती के लिए मिट्टी की आवश्यकता

फालसा की खेती के लिए किसी विशेष प्रकार की मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है। इसे आसानी से सूखा पीडि़त या अनुपजाऊ क्षेत्रों में खराब मिट्टी पर उगाया जा सकता है। अगर आप इसकी खेती व्यवसायिक रूप से करना चाहते है, तो इसके लिए दोमट मिट्टी को सबसे अच्छा माना जाता है और यह अल्प सिंचाई परिस्थितियों में अच्छी वृद्धि करती है। ऐसी मिट्टी जहाँ पानी बरसात के मौसम में कई दिनों तक रुकता है या जिनकी उप-सतह जल निकासी खराब होती है और जल-जमाव को फालसा की व्यावसायिक खेती के लिए नहीं चुना जाना चाहिए। फल के शीघ्र विपणन की सुविधा के लिए शहर नजदीकी क्षेत्रों में इसकी फसल की जाती है। कभी-कभी फलने-फूलने के मौसम में और सूखे समय में भी सिंचाई करना उत्पादकों के लिए लाभदायक होता है।

फालसा खेती के लिए बीज की बुवाई

आमतौर पर फालसा पौधा बीज द्वारा लगाया जाता है। लेकिन पौधे को दृढ़ लकड़ी के कटाई के साथ-साथ लेयरिंग द्वारा आसानी से लगाया जा सकता है। बोल्ड सीड्स जुलाई के दौरान 90 प्रतिशत अंकुरण देते हैं। उभरी हुई जमीन के बैड पर बीज को 2 सेंटीमीटर गहरी 10 सेंटीमीटर की दूरी पर बोएं। बीज से बीज की दूरी 2 सेमी होनी चाहिए। रेत में एफवाईएम 50 : 50 अनुपात के मिश्रण के साथ बीज को कवर करें। फिर, बुवाई के तुरंत बाद पानी छिडक़ें। सीडबेड्स की बाढ़ से बचें, विफल होने पर कौन से जड़ -सडऩ, कवक पाइथियम प्रकट हो सकते हैं। बीज अंकुरित होने के बाद 1 प्रतिशत बाविस्टिन घोल लगायें। सफेद चींटियों के हमले की जांच करने के लिए बीज बुवाई के 30 दिनों के बाद पानी के साथ l0ml / L द्वारा Dursban 20EC का घोल लगाएँ। इसकी जनवरी में रोपाई के लिए सीडिंग तैयार हो जाती है।

फालसा की रोपाई व देखभाल

फालसा को कई विधियों जैसे बीज, कटिंग, ग्राफ्टिंग और लेयरिंग द्वारा किया जाता है लेकिन बीज प्रसार फालसा के गुणन की सबसे लोकप्रिय विधि है। अंकुर रोपण से लगभग 12 से 15 महीने पहले अच्छी तरह से विकसित फलों की पहली फसल का उत्पादन करते हैं। फालसा के पौधों की रोपाई से पहले कृषि विशेषज्ञों की सलाह जरूरी लेनी चाहिए। एक एकड़ में इसके 1200-1500 पौधे लगाए जा सकते हैं। फालसा के खेतों को ज्यादा देख-रेख की जरूरत नहीं पड़ती, लेकिन पेड़ की गुणवत्ता के लिए उसकी सालाना कटाई-छँटाई जरूरी करनी चाहिए। पौधों के उचित वृद्धि के लिए, तीन महीने में एक बार दो किलो "मल्टीप्लायर" ड्रेंचिंग पद्धति से देना है। 16 लीटर के पंप में 15 मिली, "कृष्णा ऑल क्लीयर" 02 मिली, और "कृष्णा स्प्रे प्लस" 01 मिली मिलाकर, पौधों की जल्दी वृद्धि के लिए छिडक़ाव करें। फालसा के बीजों बोने से पहले बीजोपचार प्रक्रिया करें, इसके लिए फालसा के एक किलो बीज में पाँच ग्राम "मल्टीप्लायर" तथा थोड़ा सा पानी मिलाकर हिलाने से सभी बीज काले-काले दिखने लगेंगे, छाँव में सुखाकर बुवाई कर सकते हैं।

फालसा के तैयार पौधों की रोपाई

जनवरी में तैयार किए गए गड्ढों में नंगे जड़ वाले स्वस्थ अंकुर को प्रत्यारोपण करें। आम तौर पर, रोपण 1.0 x 1.5 मीटर लाइनों में अलग-अलग किया जाता है। फालसा के पौधों के वास्तविक रोपण के एक महीने पहले 0.5 मीटर के आकार के गहरे गड्ढे और एक ही व्यास से तैयार किया जाता है। इसके पौधा रोपण के बाद पौधे की जड़ों के आसपास की मिट्टी को दबाने के लिए हल्की सिंचाई की जाती है। सीडलिंग को सीडबेड से अच्छी तरह से तैयार किए गए गड्ढों में प्रत्यारोपित किया जाता है जब एक वर्ष पुराना होता है और आमतौर पर इसके बारे में 3 से 4.5 मीटर तक फैला जाता है।  हालांकि कुछ प्रयोगों ने कटाई में दक्षता को अधिकतम करने के लिए 1.8 x 1.8 मीटर या 2.4 x 2.4 मीटर किया जाता है।  करीब 13 से 15 महीने में फलने शुरू हो जाएंगे। लगभग 0.9 से 1.2 मीटर की ऊंचाई तक वार्षिक छंटाई नई शूटिंग और अधिक कठोर ट्रिमिंग से बेहतर पैदावार को प्रोत्साहित करती है। 10 पीपीएम जिबरेलिक एसिड के स्प्रे ने फल-सेट में वृद्धि की है और 40 पीपीएम पर, फलों के आकार में वृद्धि हुई है लेकिन फल-सेट में कमी आई है।

फालसा  के पौधों की सिंचाई प्रबंधन

ज्यादा फल प्राप्त करने के लिए इसे अप्रैल से जून तक 20 दिनों के अंतराल पर सिंचाई की आवश्यकता होती है। बरसात के मौसम और सुस्ती में कोई सिंचाई नहीं की जा सकती है। सिंचाई का समय और मात्रा पौधों की मिट्टी, जलवायु, वर्षा और उम्र के अनुसार बहुत भिन्न होती है। आमतौर पर, गर्मियों में हर 15 से 20 दिनों में एक सिंचाई (बारिश के दौरान छोडक़र) और सर्दियों में हर 4-6 सप्ताह में एक बार पर्याप्त माना जाता है। 

फालसा के पौधों में लगने वाले रोग व नियंत्रण

  • लीफ स्पॉट डिजीज :  यह बीमारी बारिश के मौसम में पौधों में देखने को मिलती है। इस रोग से प्रभावित पत्तियां छोटे भूरे रंग के घाव पत्तियों के दोनों किनारों पर दिखाई देते हैं। 

  • नियंत्रण : इसे डिथेन जेड- 78 को 0.3 प्रतिशत एकाग्रता में या ब्लिटॉक्स को 0.2 प्रतिशत एकाग्रता में छिडक़ाव करें। 

  • रस्ट : इन रोगों के लक्षण हल्के भूरे रंग के धब्बे होते हैं जो संक्रमण के परिणामस्वरूप पत्तियों के निचले हिस्से में विकसित होते हैं। 

  • नियंत्रण :  इस रोग के लिए 15 दिनों के अंतराल पर क्ड -45 ( 0.3 प्रतिशत ) और सल्फेक्स ( 0.2 प्रतिशत ) के वैकल्पिक स्प्रे प्रभावी रूप से रस्ट रोग को नियंत्रित करते हैं।

  • पाउडी मिल्ड्यू :  यह पत्तियों पर एक पाउडर पैटीना के रूप में होता है और एक कवक है।

  • नियंत्रण :  इस बीमारी से बचने के लिए फालसा के पौधों को फफूंदनाशक दवा से स्प्रे करें। साथ ही, स्वस्थ पौधों को बीमारी के प्रसार से बचने के लिए प्रभावित भागों को काट कर अलग कर देना चाहिए। 

फालसा के फलों की तुड़ाई

फालसा के पौधों से जून, जुलाई और अगस्त में फलों की तुडाई की जाती है। फूल आने के 40 से 45 दिनों के बाद फल पकने लगते हैं। तुडाई के लिए, हैंडपैकिंग को लगाया जाता है। इसके फलों की तुड़ाई की अवधि जून के पहले सप्ताह से शुरू की जाती है। साधारण परिस्थिति में फालसा का उत्पादन दो साल में शुरू होता है ।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर  व आयशर ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

ट्रैक्टर इंडस्ट्री से जुड़े सभी अपडेट जानने के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें - https://bit.ly/3yjB9Pm

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors