सरकारी योजना समाचार ट्रैक्टर समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

पशुओं में अधिक दूध के लिए करें जरूरी घरेलू उपाय

पशुओं में अधिक दूध के लिए करें जरूरी घरेलू उपाय
पोस्ट -01 सितम्बर 2022 शेयर पोस्ट

दुधारू पशु को खिलाएं इन पोषक तत्वों से भरपूर चारा

यह पोस्ट किसान भाइयों के लिए बहुत काम की है। अक्सर सभी किसान दूध के लिए पशुपालन करते हैं। वहीं पशुपालन कर देश के लाखों लोग डेयरी व्यवसाय भी चलाते हैं। आजकल दूध की खपत इतनी अधिक बढ़ती जा रही है कि पशुओं से मिलने वाला दूध कम पड़ जाता है। महंगाई के इस दौर में पशुपालक अपने दुधारू पशु से अधिक दूध तो चाहते हैं लेकिन उसकी सेहत का खयाल कम रखते हैं। दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए पशुओं को नियमित रूप से हरे चारे या भूसे के अलावा ऐसे पोषक तत्वों से भरपूर दाना-पानी भी देना चाहिए जिससे दूध की मात्रा बढ़े। इससे पशुओं की सेहत भी अच्छी रहेगी और पशुपालकों को अधिक दूध उपलब्ध होने से उनकी आय में वृद्धि होगी। ट्रैक्टर गुरु की इस पोस्ट में आपको दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के सरल नुस्खे बताए जाएंगे। इसे अवश्य पढ़ें और शेयर करें।

New Holland Tractor

पशुओं में दूध बढ़ाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

अपने पालतू पशुओं में दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए उनकी खुराक पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। इसके लिए आपको बाजार से कुछ ज्यादा खरीदने की जरूरत नहीं है। पशुओं के लिए दूध बढ़ाने वाली पोषक खुराक में आप गेहूं का दलिया, मक्का का चारा, जौ का चारा या दालों के छिलके और सरसों एवं बिनौले की खली आदि खिलाएं। ये भी ध्यान रखें कि ये चीजें कैसे खिलानी हैं। हो सके तो पशु विशेषज्ञ से भी सलाह लें। सबसे अच्छा तरीका तो यही है कि जो हरा चारा या भूसा आप रोजाना पशुओं को खिलाते हैं उसमें इन पोषक तत्वों वाली चीजों को मिलाकर खिलाएं। इनसे मिनरल और कैल्शियम की पूर्ति होगी। इसके अलावा मिल्क बूस्टर, मिल्कगेन आदि भी दुधारू पशुओं को खिलाई जा सकती हैं।

पोषक सामग्री की मात्रा का ध्यान रखें

यहां बता दें कि अपने पशुओं की सेहत और इनमें दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए जो घरेलू पोषक सामग्री आप चारे के साथ मिलाकर खिला रहे हैं उसकी मात्रा निश्चित करें। संतुलित आहार पशुओं की सेहत के लिए बहुत लाभदायक साबित होगा। आमतौर पर एक पशु के लिए रोजाना 20 किलोग्राम हरा चारा, 5 किलोग्राम सूखा चारा और 2 से 3 किलोग्राम दालों का दाना मिलाकर खिलाया जाना चाहिए। दाना खिलाने से करीब 4 घंटे पहले उसे भिगो देना चाहिए। इससे पशुओं को आहार पचाने में कोई परेशानी नहीं आएगी।

इन चीजों को पशु आहार में करें शामिल

किसान भाइयों के लिए पशु विशेषज्ञों के अनुसार यह सलाह भी है कि वे दूध में अच्छी फैट के लिए पशुओं को कैल्शियम, मिनरल मिक्सचर, नमक, प्रोटीन, वसा, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट  आदि से तत्वों से युक्त आहार दें।

पशुओं के रहने के स्थान पर सफाई जरूरी

पशुओं को पोषक तत्वों वाले आहार के अलावा यह भी ध्यान देना चाहिए कि जहां पशु बाड़ा है वहां सफाई नियमित होती है या नहीं। यदि सफाई नहीं होगी तो पशुओं में बीमारियां फैलेंगी। ऐसे में पशु भी तनावग्रस्त हो जाते हैं और दूध की मात्रा घट जाती है।

इन बातों का रखें ध्यान

  • पशुओं के तबेले में शोर-शराबा भी नहीं होना चाहिए।

  • रोजाना पशुओं को घुमाने भी ले जाएं।

  • पशुओं के तबेले में मच्छरों को भगाने के लिए नीम की पत्तियों का धुंआ करें। इस दौरान पशुओं को दूर रखें।

  • तापमान के अनुसार पशुओं को गर्म या ठंडे पानी से नहलाना चाहिए।

  • पशुओं को हमेशा शुद्ध पानी ही पिलाएं।

औषधीय उपचार करते रहें

पशुओं के स्वास्थ्य का ख्याल रखने के लिए जरूरी है उनकी देखभाल करना। मौसम के अनुसार पशुओं को औषधीय उपचार देना चाहिए जैसे हल्दी, शतावर, अजवाइन, सौंठ, सफेद मूसली आदि पशु चिकित्सक की सलाह पर ही दें। इन चीजों से पशुओं की आहार मात्रा भी बढ़ेगी और भरपूर दूध देंगे।

इस हरे चारे से भरेंगे दूध के भंडार

आप यदि पशुपालन या डेयरी व्यवसाय से जुड़े हैं और अपने दुधारू पशुओं में दूध की मात्रा बढ़ाना चाहते है तो ऐसा हरा चार अपने खेतों में उगाएं कि साल भर आपको ना तो हरे चारे की कमी आएगी और ना ही दूध की। इस चारे को खिलाने से पशुओं में दूध की मात्रा खूब बढ़ती है। यहां आपको हरे चारे की फसलों के बारे में बताया जा रहा है। ये इस प्रकार हैं-:

नेपियर घास

नेपियर घास, जिसे आम तौर पर हाथी घास भी कहा जाता है उसे उगाने के लिए इसकी जड़ों की रोपाई की जाती है। इसके बाद हल्की सिंचाई कर दी जाती है। अगस्त महीने में इसकी रोपाई की जा सकती है। यह घास करीब 75 दिनों में तैयार हो जाती है। इससे साल में कम से कम 800 से 1000 क्विंटल हरा चारा प्रति हैक्टेयर  मिलता है।

गिनी घास

इस घास को फलों के बागानों में भी उगाया जा सकता है। इसकी खेती करना दोमट मिट्टी में बेहतर रहता है। इसकी भी जड़ों की रोपाई होती है। अगस्त में इसे लगाने पर दिसंबर में यह घास तैयार हो जाती है।

त्रिसंकर घास

यह घास नेपियर घास की तुुलना में ज्यादा तेजी से बढ़ती है। खेत की मेडों पर इसे उगाया जा सकता है। इससे पशुओं को पोषक आहार मिलता है।

पैरा घास

यह दलदली और अधिक नमी वाले स्थानों पर होती है। धान की तरह इसमें पानी भरा रहना चाहिए। इसमें 30 से 35 दिन में चारा ले सकते हैं।

स्टाइलो

स्टाइलो घास की खेती दलहनी फसल के रूप में की जाती है। इसकी बिजाई ज्वार या मक्का की फसल के सीजन में होती है। यह 0.8 से 1.6 मीटर तक बढ़ती है। यह घास पशुओं में दूध बढ़ाती है।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर  व पॉवरट्रैक ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors