ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सामाजिक समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार

बारिश के बाद ऐसे बढ़ाएं गन्ना का उत्पादन, तीन बातों का रखें ध्यान

बारिश के बाद ऐसे बढ़ाएं गन्ना का उत्पादन, तीन बातों का रखें ध्यान
पोस्ट -16 सितम्बर 2023 शेयर पोस्ट

बारिश से गन्ना फसल नुकसान कम करने के लिए अपनाएं ये तीन उपाय

गन्ना की फसल को तेज बारिश की वजह से देश के कई इलाकों में नुकसान पहुंचा है। गन्ना की खेती में सिंचाई की ज्यादा आवश्यकता होती है लेकिन ज्यादा बारिश या जल जमाव की स्थिति में गन्ना का उत्पादन कम होता है। गन्ने में लाल सड़न रोग एवं अन्य प्रकार के रोग की स्थिति पैदा हो जाती है। हालांकि अगर किसान कुछ टिप्स को फॉलो करें और इस पोस्ट में बताई गई तीन बातों का ध्यान रखें तो न सिर्फ गन्ना के फसल का नुकसान कम होगा बल्कि उत्पादन भी बढ़ जाएगा। 

New Holland Tractor

ट्रैक्टर गुरु के इस पोस्ट में बारिश के बाद गन्ना का उत्पादन बढ़ाने की टिप्स और नुकसान को कम से कम करने के तरीकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

बारिश के बाद गन्ना के नुकसान से कैसे बचें

तेज बारिश या जलजमाव से गन्ना की फसल को काफी नुकसान पहुंचता है। जल का जमाव हो जाने पर गन्ने में अक्सर लाल सड़न रोग हो जाता है और इससे गन्ना की फसल को काफी नुकसान पहुंचता है। इसके लिए जरूरी है कि गन्ने के खेत में मेढ़ को इस तरह बनाया जाए कि खेत में जल जमाव की स्थिति न हो और अगर तेज बारिश हो तो 
किसान पंप से भी पानी को बाहर कर सके। हालांकि मेढ़ पर मिट्टी को चढ़ाकर रास्ता बनाकर भी खेत से पानी बाहर कर सकते हैं। मेढ़ पर मिट्टी चढ़ाने से गन्ना को मजबूती मिलेगी और खेत से पानी भी बाहर हो जाएगा। इस तरह गन्ना की फसल को नुकसान का सामना नहीं करना पड़ेगा।

गन्ना फसल का उत्पादन कैसे बढ़ाएं

हल्की और मध्यम बारिश होना गन्ना के लिए लाभकारी ही होता है। बस जल जमाव नहीं होना चाहिए। बारिश के तुरंत बाद गन्ना की जड़ों में यूरिया डालने से उत्पादन में काफी बढ़ोतरी होती है। बता दें कि भारत में गन्ने की सबसे ज्यादा खेती और पैदावार उत्तप्रदेश में होती है। जिसके बाद बिहार, हरियाणा, पंजाब राज्यों में गन्ने की सबसे ज्यादा पैदावार होती है। भारी बारिश और बाढ़ की वजह से गन्ना किसानों को गन्ना की उचित देखभाल करनी जरूरी है ताकि नुकसान को कम से कम किया जा सके।

आंधी से गन्ने की फसल को कैसे बचाएं

तेज बारिश के साथ कई बार आंधी भी आती है। जिससे गन्ना की फसल को काफी नुकसान पहुंच सकता है। तेज बारिश और आंधी के बाद गन्ना की फसल गिर सकती है। इसके लिए किसान गन्ने की फसल में से कुछ गन्नों को आपस में बांध दें। इससे गन्ना एकजुट होगा और आंधी के समय में भी जमीन पर गन्ना नहीं गिरेगा। मिट्टी को पर्याप्त मात्रा में गन्ना की जड़ों पर चढ़ाएं। इस तरह आंधी या तेज हवा से गन्ना की फसल को काफी फायदा पहुंचेगा।

गन्ना फसल नुकसान पर मिल रहा है मुआवजा

गन्ना में हुए फसल नुकसान को देखते हुए किसानों ने मुआवजे की भी मांग की है। गन्ना फसलों को हो रहे नुकसान की वजह से किसानों को देश में कई राज्य सरकारों ने अनुदान की घोषणा की है। तेज बारिश और बाढ़ की वजह से देश में कई किसानों के खेतों में 75% तक गन्ना फसल को नुकसान पहुंचा है। 

कैसे करें गन्ना की खेती 

गन्ना की खेती करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

  • गन्ने की खेती के लिए दोमट मिट्टी सबसे ज्यादा उपयुक्त है। जल निकास के मामले में यह मिट्टी काफी अच्छी होती है। जल निकास की अच्छी व्यवस्था हो तो चिकनी मिट्टी में भी गन्ना की खेती की जा सकती है।
  • वातावरण शुष्क होने पर गन्ने की बुआई की जाती है। 30 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान गन्ना की खेती के लिए उपयुक्त है।
  • खेत की तैयारी की बात करें तो देसी हल या कल्टीवेटर की मदद से मिट्टी को पहले भुरभुरी किया जाना जरूरी है। 2 से 3 जुताई किया जाना जरूरी है। साथ ही एक हेक्टेयर खेत में 200 से 250 क्विंटल सड़ी हुई गोबर खाद को खेत में मिलाना चाहिए।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Call Back Button

क्विक लिंक

लोकप्रिय ट्रैक्टर ब्रांड

सर्वाधिक खोजे गए ट्रैक्टर