ट्रैक्टर समाचार सरकारी योजना समाचार कृषि समाचार कृषि मशीनरी समाचार मौसम समाचार कृषि व्यापार समाचार सक्सेस स्टोरी समाचार सामाजिक समाचार

डेयरी फार्म की शुरुआत कैसे करें? जानें, कैसे होगा कम लगात में अधिक मुनाफा

डेयरी फार्म की शुरुआत कैसे करें? जानें, कैसे होगा कम लगात में अधिक मुनाफा
पोस्ट -05 जनवरी 2023 शेयर पोस्ट

डेयरी फार्मिंग बिजनेस : जानें, कैसे कमाएं डेयरी फार्मिंग व्यवसाय खोलकर लाखों का मुनाफा

डेयरी फार्मिंग बिजनेस (Dairy Farming Business): डेयरी फार्मिंग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें अपने स्तर पर कई प्रकार के प्रयास कर रही है। जिसके कारण आज डेयरी फार्मिंग का बिजनेस ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का आय का एक अहम जरिया बना हुआ है। इस दौर में डेयरी फार्मिंग लोगों के लिए आय का एक मुख्य विकल्प बनकर सामने आया है। ग्रामीणों में तो यह किसानों के लिए एक आय का बढि़या जरिया है। इसके माध्यम से गांव में किसान और पशुपालक लाखों सालाना आय भी कर रहे है। और अपने गांव में अन्य लोगों को रोजगार के नये अवसर भी  पैदा कर रहे है। इन सब में सरकार भी पूरा योगदान दे रही है। ऐसे में यदि आप अपने डेयरी फार्मिंग से इस महंगाई के दौर में कम लागत पर और अधिक पैसा कमाना चाहते है, तो डेयरी फार्मिंग से जुड़े कुछ बिजनेस को शुरू कर सकते है। इसके लिए सरकार डेयरी उद्यमिता विकास योजना के माध्यम से डेयरी फार्मिंग से जुड़े बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए बैंक से लोन और इस लोन पर सब्सिडी का लाभ भी देती है। ऐसे में आप भी डेयरी फार्मिंग से जुड़े बिजनेस के को स्टार्ट करने की सोच रहे है, तो ट्रैक्टरगुरु की यह पोस्ट आपके लिए खास हो सकती है। इस पोस्ट में हम आपको डेयरी फार्मिंग से जुड़े 5 बेहतरीन बिजनेस के बारे में जानकारी देने जा रहे है, जिन्हें आप सरकार की मदद से कम पैस में स्टार्ट कर सकते है। और सालाना लाखों रुपए आय का एक मुख्य स्त्रोत बना सकते है। साथ ही गांव में रखकर अन्य लोगों को भी एक बढि़या रोजगार दे सकते है। आइए नीचे जानते है।

New Holland Tractor

सरकार भी करती है आर्थिक मदद

ग्रामीण सेक्टर में डेयरी फार्मिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार डेयरी उद्यमिता विकास योजना कर संचालन कर रही हैं। इस योजना के माध्यम से पशुपालको को डेयरी फार्मिंग फार्म खोलने के लिए प्रोरित किया जाता है। इसके लिए सरकार द्वारा योजना के माध्यम से डेयरी खोलने और डेयरी का विकास करने एवं डेयरी से जुड़े नए व्यवस्या स्थापित करने के लिए नाबार्ड वित बैंक द्वारा 25 प्रतिशत सब्सिडी पर लोन दिया जाता है। इसके अलावा एसटी/एससी किसानों वर्गों एवं महिला किसानों को 33.33 प्रतिशत सब्सिडी पर लोन प्रदान किया जाता है। नाबार्ड की ओर संचालित इस योजना में किसान, व्यक्तिगत उद्यमी, गैर सरकारी संगठन, महिला किसान समूह और कंपनियां आवेदन कर लाभ उठा सकती हैं।

डेयरी प्रोडक्ट्से प्लांट का नया बिजनेस

देश के ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर शहरी क्षेत्र तक में दूध की डिमांड सालभर बनी रहती है। इन क्षेत्र में किसान डेयरी फार्मिंग स्थापित कर डेयरी प्रोसेसिंग यूनिट आसानी से लगा सकते है। इसके लिए सरकार विभिन्न ईकाईयों की स्थापना के लिए तय प्रावधानों के तहत बैंक से 10 लाख का लोन सब्सिडी पर उपलब्ध करवाती है। इसमें आप दूध व दूध उत्पादों के शीत भंडारण यानि कोल्ड स्टोरेज के लिए लोन हालिस कर सकते है। आजकल बाजार में दूध से बने प्रोडक्ट्स की मांग भी बहुत हैं। इस हिसाब से आप डेयरी प्रोडक्ट्स से संबंधित यूनिट स्थापित कर डेयरी फार्मिंग का विस्तार कर सकते है। दूध से देसी उत्पाद बनाने की यूनिट  के लिए नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी कारोबारियों को 7.5 लाख रुपए तक के बिजनेस लोन को बिना कुछ गिरवी रखे, न्यूनतम कागजातों पर मात्र 3 दिन में देती है।

चॉकलेट प्रोसेसिंग बिजनेस

डेयरी फार्मिंग यूनिट से जुड़ी चॉकलेट प्रोसेसिंग का बिजनेस भी किया जा सकता है। दूध के साथ चॉकलेट प्रोसेसिंग कर कई प्रकार के चॉकलेट का निर्माण किया जाता है। आज के दौर में बाजार में कई तरह की चॉकलेट बनाने वाली कंपनी है। जो चॉकलेट प्रोसेसिंग के लिए काफी बड़े पैमाने पर रॉ चॉकलेट और दूध का खरीद करती है। आप प्रोसेसिंग यूनिट लगा कर इन कंपनियों को कच्चा चॉकलेट माल बनाकर काफी अच्छे मुनाफे में बेच सकते है। या स्वयं ही प्रोसेगिंग कर इन्हें लोकल बाजार में बेच सकते है। और अपना स्वयं का ब्रांड भी स्थापित कर सकते है। इसमें सरकार भी अपका पूरा सहयोग करेगी।

नया ट्रैक्टर, मिनी ट्रैक्टर, आने वाला ट्रैक्टर, ट्रैक्टर की तुलना के लिए यहां क्लिक करे 

आइसक्रीम यूनिट का बिजनेस

डेयरी फार्मिंग से जुड़े आइसक्रीम यूनिट का बिजनेस काफी महत्वपूर्ण बिजनेस है। गर्मी हो या सर्दी हर समय आइसक्रीम की मांग बनी रहती है। देश विदेशों में आइसक्रीम का बिजनेस काफी बड़े पैमाने पर होता है। इस बिजनेस में दूध की 100 प्रतिशत डिमांट बनी रहती है। क्योंकि आइसक्रीम के प्रोसेसिंग में अधिकतर आइसक्रीम दूध से बनाई जाती है। इस प्रकार यदि आपके पास डेयरी फॉर्म है और आप कोई अच्छा बिजनेस करने की सोच रहे है, तो आइसक्रीम यूनिट स्थापित करना अपने लिए एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। इससे आप काफी अच्छा पैसा कमा सकते है। और अन्य आइसक्रीम पार्लर को नए-नए फ्लेवर का इस्तेमाल करके कई प्रकार की आइसक्रीम वैरायटियां बनाकर सप्लाई भी कर सकते है। इसके लिए आप सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना के माध्यम से प्लांट लगानें के लिए लोन भी प्राप्त कर सकते है। और अपना स्वयं का आइसक्रीम बिजनेस स्थापित कर सकते है।

दूध, दही और पनीर बनाने का बिजनेस

केंद्र सरकार की डेयरी उद्यमिता विकास योजना के माध्यम से आप डेयरी फार्मिंग से जुड़ा दूध सप्लाई और दूध, दही और पनीर बनाने का बिजनेस भी स्थापित कर सकते है। इसके लिए आप नाबार्ड बैंक के माध्यम से आर्थिक मदद भी प्राप्त कर सकते है। डेयरी प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित कर आप यदि बाजार में दूध को 50 रुपए प्रति लीटर में बेचते हैं तो आप प्रतिदिन 10 हजार रुपए कमा सकते हैं। इसके अलावा  यदि आप इस दूध से दही और पनीर बनाकर बेचते  है, तो आप औसतन महीने में तीन लाख रुपए आराम से कमा सकते हैं। यदि आप इसमें 1 लाख रुपए लगाकर शुरुआत करते है, तो भी इसमें दो लाख रुपए तक कमाया जा सकता हैं। दूध, दही और पनीर बनाने के लिए प्लांट थोड़ी बहुत जगह में लगाया जा सकता है। इसके लिए बस थोड़ी सी ट्रेनिंग लेने पड़ेगी। इसके लिए नेशनल स्‍मॉल इंडस्‍ट्रीज कॉरपोरेशन के टेक्निकल सर्विस सेंटर में ट्रेनिंग ली जा सकती है। यहां आपको दूध, दही और पनीर बनाने से लेकर उसकी मार्केटिंग तक के बारे में बताया जाएगा। 

यह भी जाने पशुओं का बीमा कराने पर 70 प्रतिशत तक की सब्सिडी

वर्मी कम्पोस्ट यूनिट का बिजनेस

डेयरी फार्मिंग से जुड़ा सबसे अच्छा बिजनेस वर्मी कम्पोस्ट यूनिट का है। क्योंकि इस बिजनेस से किसानों एवं डेयरी संचालकों को आर्थिक लाभ के साथ खेती में भी लाभ मिलता है। इस बिजनेस से पशुओं के वेस्ट का निपटान करने जैसी गंभीर समस्या का भी हल होता है। यहां तक की केंद्र और राज्य सरकारें भी किसानों को वर्मी कंपोस्ट बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं। परम्परागत कृषि विकास योजना के माध्यम से सब्सिडी भी दी जाती  है। वर्तमान समय में कई राज्य सरकारें अपने-अपने राज्य में जैविक खेती को बढ़़ावा दे रही है। जिसके लिए कृषि विशेषज्ञों द्वारा खेतों में खाद के तौर पर ऑर्गेनिक वर्मीकम्पोस्ट का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। यहां तक सरकार द्वारा किसानों को पैसा देकर गोबर और मूत्र भी खरीदा जा रहा है। इन सब को ध्यान में रखते हुए वर्मी कम्पोस्ट यूनिट की स्थापना करना गलत नहीं होगा। इसकी स्थापना करके किसान काफी अच्छा पैसा कमा सकते हैं। और अपने क्षेत्र में अन्य किसानों को भी ट्रेनिंग दे सकते है। हाल ही में छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने  गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट, सुपर कम्पोस्ट एवं सुपर प्लस कम्पोस्ट का निर्माण कर छत्तीसगढ़ में जैविक खेती को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली महिला स्व-सहायता समूहों को प्रोत्साहित भी किया है। 

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह महिंद्रा ट्रैक्टर व स्वराज ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

Website - TractorGuru.in
Instagram - https://bit.ly/3wcqzqM
FaceBook - https://bit.ly/3KUyG0y

Quick Links

Popular Tractor Brands

Most Searched Tractors